न्यूजीलैंड दौरे पर पहुंची पाकिस्तान क्रिकेट टीम के बल्लेबाज शान मसूद (Shan Masood) को इस बात की खुशी है कि दो सप्ताह तक क्वारेंटीन में रहने के बाद अब खिलाड़ियों को इंग्लैंड दौरे की तरह बायो-बबल (जैव सुरक्षित माहौल) में नहीं रहना होगा। Also Read - इंग्लैंड के पूर्व कप्तानों ने इस टीम को बताया WTC Final जीतने का दावेदार; क्या है माइकल वॉन, एलेस्टर कुक की राय

पाकिस्तान के 53 सदस्यीय दल ने मंगलवार को क्वारेंटीन पूरा कर लिया और अब टीम के खिलाड़ी न्यूजीलैंड में कही भी जाने के लिए आजाद है। इंग्लैंड में टीम को क्वारेंटीन के बाद भी छह हफ्तों तक बायो-बबल में रहना पड़ा था। Also Read - Covid 19 Third Wave: अलर्ट! अगले कुछ सप्ताह में कोरोना की तीसरी लहर दे सकती है दस्तक, टास्क फोर्स ने जारी की चेतावनी

इस दौरे पर पाकिस्तान को तीन मैचों की टी20 श्रृंखला के बाद दो मैचों की टेस्ट श्रृंखला में भाग लेना है। हालांकि दौरा उस समय खतरे में पड़ गया जब 53 सदस्यीय पाकिस्तानी दल के आठ सदस्य कोविड-19 जांच में पॉजिटिव मिले और जिसमें कुछ सदस्यों पर नियमों को तोडने का आरोप भी लगा। Also Read - क्या कोरोना की संभावित तीसरी लहर में ज्यादा प्रभावित होंगे बच्चे? जानें नए सर्वे में क्या आया सामने...

न्यूजीलैंड ने कोविड-19 महामारी को काफी हद तक नियंत्रित कर लिया है जबकि इंग्लैंड में अभी भी लोग इस वायरस के चपेट में आ रहे है। मसूद ने कहा कि होटल में क्वारेंटीन में रहना मुश्किल था लेकिन खिलाड़ियों को पता था कि इसके पूरा होने के बाद वो कही भी जाने के लिए आजाद होंगे।

टेस्ट टीम के इस सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘‘हम सब ने साथ मिलकर इस चुनौती से निपटने का फैसला किया। लगातार 14 दिनों तक होटल के कमरे में रहना आसान नहीं है। हमें इस बात से काफी रहत मिली कि यहां इंग्लैंड की तरह बायो बबल में नहीं रहना होगा।’’रे