इंग्लैंड की महिला और पुरुष टीमों को अक्टूबर में पाकिस्तान का दौरा (England Tour of Pakistan) करना है. पाकिस्तान के खिलाफ इंग्लैंड की पुरुष टीम दो टी20 मैचों (PAK vs ENG T20i Series) की सीरीज खेलेगी. लेकिन इन दिनों अफगानिस्तान में बिगड़े हालात के मद्देनजर वह पाकिस्तान में अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है और इस प्रस्तावित दौरे से पहले इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) यहां की सुरक्षा इंतजामों की समीक्षा करेगा.Also Read - क्रिकेट पर तालिबान प्रभाव: क्या वर्ल्ड कप में भाग ले पाएगा अफगानिस्तान! ICC पर हैं निगाहें

इंग्लैंड की पुरुष टीम के लिए बीते 16 साल में यह पहला मौका होगा, जब वह पाकिस्तान का दौरा करेगी, जबकि इंग्लैंड की महिला टीम पहली बार इस देश के दौरे पर होगी. इंग्लैंड ने आखिरी बार साल 2005 में इस देश का दौरा किया था. Also Read - मुझे नहीं लगता कि विराट कोहली के कप्तानी छोड़ने के फैसले से RCB टीम को परेशानी हो रही है: ब्रायन लारा

हालांकि, तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने से पड़ोसी देश पाकिस्तान में नए सुरक्षा मुद्दों पर चिंता बढ़ गई है. डेली मेल ने ईसीबी के प्रवक्ता के हवाले से कहा, किसी भी दौरे के लिए सुरक्षा प्रक्रियाएं और जांच चल रही है. हम इस शरद ऋतु में पाकिस्तान के पुरुषों और महिलाओं के दौरे की योजना बना रहे हैं. Also Read - PAK vs ECB: इंग्‍लैंड ने भी रद्द किया पाकिस्‍तान दौरा, सुरक्षा नहीं बल्कि मानसिक और शारीरिक स्‍वास्‍थ का दिया हवाला

2009 में श्रीलंका टीम की बस पर एक आतंकवादी हमले के बाद पाकिस्तान को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में घरेलू अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने के लिए मजबूर होना पड़ा था. पाकिस्तान में हालांकि अब इंटरनेशनल क्रिकेट शुरू हो चुका है लेकिन हर दौरे से पहले वहां के संबंधित बोर्ड सुरक्षा का जायजा लेते हैं.

इसी के बाद दौरे इन टीमों के के दौरे को हरी झंडी मिलती है. सुरक्षा चिंता को लेकर खिलाड़ी व्यक्तिगत स्तर पर दौरे छोड़ते रहे हैं. 2016 में इंग्लैंड के एलेक्स हेल्स और इयोन मोर्गन ने सुरक्षा कारणों से बांग्लादेश दौरा नहीं किया था.

पाकिस्तान इंग्लैंड के खिलाफ यह घरेलू सीरीज टी20 वर्ल्ड कप से पहले आयोजित कर रहा है. दोनों टीमों के लिए टी20 वर्ल्ड कप की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए दो मैच की यह सीरीज खासी अहम है.

इंग्लैंड का मानना है कि टी20 वर्ल्ड कप से पहले पाकिस्तान के खिलाफ उसके घर में खेलकर उसे यूएई जैसे हालात से रू-ब-रू होने का मौका मिलेगा और इन हालात को समझकर वह टी20 वर्ल्ड कप में अपनी संतुलित टीम उतार पाएगा.