नई दिल्ली : मोहम्मद हफीज की 84 रन की पारी और कप्तान सरफराज अहमद के शानदार अर्धशतक की बदौलत पाकिस्तान ने इंग्लैंड को जीत के लिए 349 रन का लक्ष्य दिया. विश्व कप 2019 में अब तक का यह सबसे बड़ा लक्ष्य है. टॉस हारकर पहले बैटिंग करने उतरी पाक टीम के लिए हफीज ने 62 गेंदों का सामना करते हुए 84 रन बनाए. जबकि बाबर आजम और सरफराज ने अर्धशतक लगाया. इंग्लैंड के लिए मोईन अली ने शानदार बॉलिंग की. उन्होंने 10 ओवर में 50 रन देकर 3 विेकट झटके हैं. क्रिस वॉक्स को भी 3 सफलताएं मिलीं. Also Read - दागी क्रिकेटर के कमबैक को लेकर PCB पर भड़के मोहम्मद हफीज, दे डाली ये नसीहत

पहले मैच की गलतियों से सीखते हुए पाकिस्तान ने अपनी बल्लेबाजी में सुधार किया और सोमवार को आईसीसी विश्व कप-2019 के अपने दूसरे मैच में मेजबान इंग्लैंड के सामने 349 रनों का विशाल लक्ष्य रखा है. वेस्टइंडीज ने पाकिस्तान को पहले मैच में सिर्फ 105 रनों पर ढेर कर दिया था, लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ ट्रेंट ब्रिज मैदान पर इस टीम ने बेहतरीन बल्लेबाजी की और 50 ओवरों में आठ विकेट खोकर 348 रन बोर्ड पर टांग दिए. Also Read - पाकिस्तान के इस ऑलराउंडर ने संन्यास पर तोड़ी चुप्पी, कहा-इस समय इंटरनेशनल क्रिकेट को कहूंगा अलविदा

पाकिस्तान के लिए इस मैच में मोहम्मद हफीज का अनुभव काम आया जिन्होंने 62 गेंदों पर आठ चौके और दो छक्कों की मदद से 84 रनों की पारी खेला. हफीज के अलावा बाबर आजम ने 68 गेंदों पर 63 रन बनाए. उनकी पारी में चार चौके और एक छक्का शामिल रहा. Also Read - पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने जारी किया नया फरमान, यदि खिलाड़ी फिटनेेेस टेस्ट में फेल हुए तो...

दरअसल, इन दोनों ने जो पारियां खेलीं उसके लिए मंच इमाम उल हक और फखर जमन की सलामी जोड़ी ने तैयार किया था. बल्लेबाजी की दावत मिलने पर पहली पारी खेलने उतरी पाकिस्तान की इस सलामी जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 82 रन जोड़े. 15वें ओवर की पहली गेंद पर मोइन अली ने फखर को आउट कर इस साझेदारी पर विराम लगाया. फखर ने 40 गेंदों पर 38 रन बनाए. बाबर के साथ मिलकर इमाम ने टीम का स्कोर 100 के पार पहुंचा दिया लेकिन वह अपने अर्धशतक से छह रन से चूक गए. अली ने उनका विकेट 111 के कुल स्कोर पर चटकाया. इमाम ने तीन चौके और एक छक्के की मदद से 58 गेंदों पर 44 रन बनाए.

विश्व कप 2019: कोहली की तरह खेलना चाहते हैं पाकिस्तानी खिलाड़ी – यूनिस खान

यहां बाबर और हफीज ने अपने अनुभव का फायदा उठाया और बिना किसी जल्दबाजी के स्कोरबोर्ड चलाते रहे और मौका मिलने पर बाउंड्री भी लगाते रहे. इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 88 रनों की साझेदारी की. टीम का स्कोर 199 था तभी अली ने एक बार फिर साझेदारी तोड़ने का काम किया और इस बार उनका शिकार बाबर बने. बाबर ने अली की गेंद पर आगे बढ़कर शॉट खेला और क्रिस वोक्स ने उनका शानदार कैच पकड़ा.

वर्ल्ड कप हारने के बाद 2007 में संन्यास लेना चाहते थे, रिचर्डस के फोन ने बदल दिया मन

हफीज खड़े हुए थे और इस बार उन्हें कप्तान सरफराज अहमद का साथ मिला. कप्तान ने हफीज के साथ चौथे विकेट के लिए 80 रन जोड़े. हफीज अपने शतक की ओर बढ़ रहे थे लेकिन वोक्स ने एक बार फिर कैच पकड़ पाकिस्तान को बड़ा झटका दिया. वोक्स ने हफीज का कैच मार्क वुड की गेंद पर पकड़ा.

कप्तान और आसिफ अली ने टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचाया और इसके 11 रन बाद आसिफ 14 के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट लिए. 319 के कुल स्कोर पर वोक्स ने अपनी ही गेंद पर सरफराज को आउट कर दिया. सरफराज ने 44 गेंदों पर पांच चौकों की मदद से 55 रन बनाए. शोएब मलिक (8), वहाब रियाज (4) जल्दी आउट हो गए. हसन अली और शादाब खान 10-10 रनों पर नाबाद लौटे. इंग्लैंड के लिए मोइन अली और क्रिस वोक्स ने तीन-तीन विकेट लिए. वुड को दो सफलताएं मिलीं.