नई दिल्ली. पाकिस्तान की विश्व कप हाकी में भाग लेने की उम्मीदों को झटका लगा है क्योंकि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उसे लोन देने से इंकार कर दिया है. जी हां, आपका सोचना बिल्कुल जायज है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी PCB कोई बैंक नहीं बल्कि उस मुल्क में क्रिकेट को चलाने वाली संस्था है. लेकिन हकीकत ये है कि पाक हॉकी फेडरेशन अपने दौरों के लिए वित्तीय मदद को लेकर PCB का ही दरवाजा खटखटाता है.

पुराने लोन दो, नया लोन लो- PCB

हालांकि, इस बार PCB उसे मदद करने के मूड में नहीं है. दरअसल, इसकी वजह है उसके पुराने लोन का भुगतान न करना. पाक हॉकी फेडरेशन साल 2000 से वित्तीय मदद को लेकर PCB से लोन ले रहा है. लेकिन हॉकी फेडरेशन ने अब तक एक भी लोन का भुगतान नहीं किया है. यही वजह है कि PCB ने उसे नया लोन देने से इंकार कर दिया है. PCB के लोन न देने के स्टैंड से पाकिस्तान का हॉकी वर्ल्ड कप में खेलना फिलहाल दूर की कौड़ी नजर आ रहा है.

फ्रेश लोन से PCB का साफ इंकार

पाकिस्तान के नये मुख्य कोच ताकिर दार और मैनेजर हसन सरदार ने पुष्टि की कि उन्होंने PCB प्रमुख एहसान मनि से बात करके उनसे विश्व कप के खर्चों के लिये लोन मुहैया कराने का आग्रह किया था. दार ने कहा, ‘‘हमें उनसे गुरुवार को बैठक करनी थी लेकिन कुछ जरूरी मसलों के कारण उन्होंने हमसे फोन पर बात की. उन्होंने स्पष्ट किया कि पीसीबी पीएचएफ को किसी तरह का फ्रेश लोन नहीं दे सकता है क्योंकि बोर्ड ने लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) तौकिर जिया के कार्यकाल के दौरान महासंघ को जो ऋण दिया था उसे लौटाया नहीं.’’ दार ने कहा कि मनि ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि पुराने लोन के कारण बोर्ड के लिये नया लोन देना संभव नहीं है क्योंकि उन्हें अपने वित्तीय सलाहकारों और लेखा परीक्षकों को जवाब देना है.

कैंप लगा पर हिस्सा लेने पर सस्पेंस

विश्व कप की अपनी तैयारियों को लेकर पाकिस्तान ने लाहौर में कैंप तो लगा दिया है लेकिन वो इस टूर्नामेंट का हिस्सा बन सकेगा या नहीं ये फिलहाल कहना मुश्किल है. बता दें कि विश्व कप 28 नवंबर से 16 दिसंबर के बीच भुवनेश्वर में खेला जाएगा.