भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल सीनियर नेशनल टीम में युवा विकेटकीपरों को लगातार मौके नहीं दिए जाने से नाराज हैं. पार्थिव का मानना है कि भारत के युवा विकेटकीपरों को राष्ट्रीय टीम में जगह पक्की करने के लिए लगातार मौके दिए जाने चाहिए जो इस समय नहीं मिल रहे हैं. Also Read - 'युवा ओपनर पृथ्वी शॉ में है वीरेंद्र सहवाग जैसी क्षमता, किसी भी गेंदबाजी अटैक को कर सकता है ध्वस्त'

टेस्ट टीम में रिद्धिमान साहा लगातार खेल रहे हैं लेकिन सीमित ओवरों के प्रारूप में विकेटकीपर की जगह पक्की नहीं है. रिषभ पंत अपने खराब फॉर्म से जगह पक्की नहीं कर सके तो केएल राहुल को विकेटकीपिंग की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभालनी पड़ रही है. Also Read - टीम इंडिया ने World Cup 2019 में खुद को कैसे पहुंचाया नुकसान, टॉम मूडी ने गिनाई कमियां

टीम इंडिया से अंदर-बाहर होते रहे 35 वर्षीय पार्थिव ने इंस्टाग्राम पर एक चैट में कहा ,‘मुझे नहीं लगता कि हमें कोई स्थायी विकेटकीपर मिलने वाला है. भारत ए के पास केएस भरत हैं. टेस्ट में साहा नंबर एक विकेटकीपर हैं लेकिन वनडे में पंत या राहुल. स्थायी विकेटकीपर होने से लगातार अच्छा प्रदर्शन भी हो सकेगा.’ Also Read - Happy Birthday Sunil Gavaskar: 71 साल के हुए 'लिटिल मास्टर', ICC से लेकर BCCI ने महान खिलाड़ी के बारे में कही ये बात

25 टेस्ट खेल चुके हैं पार्थिव 

इंग्लैंड के खिलाफ साल 2002 में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत करने वाले पार्थिव ने अब तक 25 टेस्ट मैचों में कुल 934 रन बनाए हैं. 38 वनडे इंटरनेशनल मैचों में पार्थिव के नाम 736 रन दर्ज हैं. पार्थिव ने दो टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 36 रन जुटाए हैं. पार्थिव ने टेस्ट में विकेट के पीछे 72 शिकार किए हैं जबकि वनडे में उनके नाम 39 शिकार हैं.