भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम की ‘नई दीवार’ के रूप में विख्यात मिडिल ऑर्डर बैट्समैन चेतेश्वर पुजारा का क्रिकेट प्रेम जगजाहिर है. जब एक बार ये बल्लेबाज क्रीज पर बल्लेबाजी के लिए आता है तो फिर जल्दी वापस जाने का नाम नहीं लेता. टीम इंडिया की टेस्ट टीम में  नंबर तीन पर बल्लेबाजी करने वाले पुजारा को सामने देखते हुए गेंदबाज भी उन्हें जल्दी आउट करने के फॉर्मूले ढूढते नजर आते हैं. ये वही पुजारा हैं जिन्होंने 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसी के घर में उसके गेंदबाजों के ‘सिरदर्द’ बन गए थे. उस दौरे पर सर्वाधिक 1258 गेंदों का सामना करने वाले पुजारा ने भारत की ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीत में अहम भूमिका निभाई थी. Also Read - राजधानी दिल्ली में पासवर्ड हैक कर बनाए जा रहे थे फर्जी ई-पास, घेरे में कई कर्मचारी, शुरू हुई जांच

बुमराह बोले-मेरे एक्शन पर सवाल उठाने वालों को लगा कि मैं भारत के लिए नहीं खेल पाऊंगा Also Read - देश में लगा करीब एक लाख लोगों की मौत का अंबार, लेकिन टेंशन फ्री होकर गोल्फ खेलते दिखे डोनाल्ड ट्रंप

हाल में ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने भी पुजारा का लोहा माना है. कमिंस का कहना है कि पुजारा को आउट करना बेहद मुश्किल काम है. उन्होंने पुजारा को दुनिया के सबसे कठिन बल्लेबाजों में से एक माना है. Also Read - खुशखबरी! बिहार में जून के पहले हफ्ते से सड़क पर फिर से दौड़ेंगी बसें, चरणबद्ध रूप में शुरू होगी सेवा

कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण अन्य खिलाड़ियों की तरह पुजारा भी इस समय अपने घर पर हैं. पुजारा ने रविवार को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपनी एक पुरानी फोटो अपलोड किया. इस फोटो का कैप्शन लिखा, ‘लॉकडाउन में मुझे सबसे ज्यादा जिस चीज की कमी खल रही है वो है क्रिकेट मैदान पर होने की.’

 

View this post on Instagram

 

The thing I miss the most in this lockdown is being on the cricket field.

A post shared by Cheteshwar Pujara (@cheteshwar_pujara) on


इस पर भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने मजाकिया अंदाज में पुजारा को ट्रोल करना शुरू कर दिया. धवन ने लिखा, ‘सच्ची, हमें पता ही नहीं था कि तू क्रिकेट को मिस कर रहा है. वाह!’

राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की प्रक्रिया में हुई देरी, जानिए पूरी डिटेल

कोरोनावायरस के कारण अगर हालात खराब नहीं होते तो इस समय लगभग सभी खिलाड़ी आईपीएल खेल रहे होते. पुजारा हालांकि आईपीएल नहीं खेलते, लेकिन वह काउंटी क्रिकेट में अपने हाथ आजमा रहे होते.