ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों ने ऑस्ट्रेलिया-ए टीम के आगामी दक्षिण अफ्रीका दौरे का बोर्ड के साथ जारी भुगतान विवाद न सुलझने की स्थिति में बहिष्कार करने की धमकी दी है. खिलाड़ियों के बीच रविवार को सिडनी में हुई बैठक में 12 जुलाई से शुरू होने वाले दक्षिण अफ्रीकी दौरे के बहिष्कार की धमकी दी गई है. बैठक के बाद खिलाड़ियों ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर बोर्ड भुगतान विवाद को सुलझाने को लेकर तुरंत कोई कदम नहीं उठाता तो वे आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे पर नहीं जाएंगे.Also Read - भारत में कोरोना से निपटने के लिए फंड इकट्ठा करेंगे ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर

इस विवाद के जारी रहने पर अगस्त में टेस्ट सीरीज लिए ऑस्ट्रेलिया के बांग्लादेश दौरे, अक्टूबर में वनडे सीरीज के लिए भारत के दौरे और इस साल के अंत में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली एशेज सीरीज पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं. Also Read - कोविड-19 महामारी के बीच विदेशी लीग में खेलने को तैयार कंगारू खिलाड़ी, बड़े नाम भी शामिल

ऑस्ट्रेलियन क्रिकेटर्स असोसिएशन (एसीए) ने कहा कि जिन खिलाड़ियों को इस दौरे के लिए चुना गया है वह इस हफ्ते के ट्रेनिंग में तो जाएंगे लेकिन इस दौरे के लिए करार पर हस्ताक्षर नहीं करेंगे. Also Read - गाबा टेस्ट में काली पट्टी बांधकर उतरे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, जानें क्या है कारण

30 जून को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और क्रिकेटरों के संघ (एसीए) के बीच भुगतान करार के खत्म होने के साथ ही लगभग 230 क्रिकेटर बेरोजगार हो गए हैं. एसीएस के चीफ एग्जिक्यूटिव एलेस्टेयर निकोलसन ने कहा कि इस दौरे को जारी रखने के लिए रेवेन्यू साझा मॉडल जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर जरूरी कदम उठाए जाने की जरूरत है.

सिडनी में हुई खिलाड़ियों की बैठक में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलिया ए टीम के कप्तान उस्मान ख्वाजा ने भुगतान विवाद के मुद्दे पर एकजुटता दिखाते हुए कहा ‘हम सब एक हैं.’ ख्वाजा ने बैठक के दक्षिण अफ्रीकी दौरे के बहिष्कार के बारे में कहा, ‘ये आसान चीज नहीं है, लेकिन हम एक हैं.’

ख्वाजा ने कहा, ‘हम फिर भी इस हफ्ते ट्रेनिंग के लिए जा रहे हैं, उम्मीद है कि कुछ समाधान निकल आए, लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो ये कठिन निर्णय (दक्षिण अफ्रीकी दौरे का बहिष्कार) है जो करना पड़ेगा.’

शेन वॉटसन ने कहा, ‘ये ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के लिए एक दुख भरा क्षण है.’

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और खिलाड़ियों के बीच नए भुगतान करार पर जारी बातचीत विफल हो जाने और पुराने करार की समयसीमा 30 जून को समाप्त होने से 1 जुलाई से करीब 230 महिला और पुरुष ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर बेरोजगार हो गए हैं.

नए भुगतान प्रस्ताव में ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड ने खिलाड़ियों के साथ रेवेन्यू साझा करने की 20 साल से जारी व्यवस्था को खत्म करने का फैसला किया है, जोकि खिलाड़ियों को मंजूर नहीं है और यही इस विवाद की सबसे बड़ी वजह है.