टेस्ट क्रिकेट में लाल गेंद से अपना जलवा बिखेरने वाले महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न (Shane Warne) चाहते हैं कि अब वक्त आ गया है कि जब लाल गेंद (Red Ball Test Cricket) को छोड़कर गुलाबी गेंद (Pink Ball Test) से ही खेले जाएं. वॉर्न सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने में दुनिया के दूसरे गेंदबाज हैं. उन्होंने अपने पूरे करियर में लाल गेंद से ही टेस्ट क्रिकेट खेली और कुल 708 विकेट अपने नाम किए. लेकिन वह चाहते हैं कि अब सभी टेस्ट गुलाबी गेंद से ही खेले जाएं यहां तक दिन वाले टेस्ट मैच भी. Also Read - डेब्‍यू टेस्‍ट की पहली पारी में ही तीन विकेट निकाल RP Singh के विशेष क्‍लब में शामिल हुए T Natarajan

इस महान स्पिनर ने कहा, ‘लाल गेंद से अब बॉलरों को किसी प्रकार की मदद नहीं मिलती है. ऐसे में वक्त आ गया है, जब हम इस पुरानी गेंद को छोड़कर नई पिंक बॉल का इस्तेमाल करना शुरू करें.’ अभी गुलाबी गेंद सिर्फ डे-नाइट टेस्ट मैच में ही इस्तेमाल होती है. बीते कुछ सालों में डे-नाइट टेस्ट मैच की शुरुआत हुई है, जिसमें पिंक बॉल का इस्तेमाल किया जाता है. Also Read - Rishabh Pant की बोगस अपील पर खुद को रोक नहीं पाए Rohit Sharma, मैदान पर ही लेने लगे मजे, देखें वीडियो

51 वर्षीय शेन वॉर्न ‘फॉक्स क्रिकेट’ पर चर्चा कर रहे थे. उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले कुछ साल से कहता आ रहा हूं. मेरा मानना है कि सभी टेस्ट मैचों में गुलाबी गेंद इस्तेमाल होनी चाहिए. दिन के मैचों में भी.’ Also Read - IND vs AUS: डेब्‍यूटेंट टी नटराजन, वाशिंगटन सुंदर की शानदार गेंदबाजी से 369 पर सिमटा ऑस्‍ट्रेलिया

उन्होंने कहा, ‘गुलाबी गेंद को देखने में आसानी होती है. दर्शक भी आसानी से देख सकते हैं. यह टीवी पर देखने में भी अच्छी लगती है. इसलिए हमेशा गुलाबी गेंद का इस्तेमाल करना चाहिए.’

वॉर्न ने कहा, ’60 ओवरों के बाद इसे बदला जा सकता है क्योंकि यह नरम हो जाती है. मैं चाहूंगा कि हर टेस्ट में गुलाबी गेंद का इस्तेमाल हो, लाल गेंद स्विंग नहीं लेती. इससे कोई मदद नहीं मिलती और 25 ओवरों के बाद यह नरम हो जाती है. इंग्लैंड में ड्यूक गेंद को छोड़कर यह बकवास है.’