श्रीलंका और पाकिस्तान के बीच होने वाली सीरीज पिछले कुछ दिनों से सुर्खियों में हैं. पाकिस्तान दौरे पर जाने वाली श्रीलंका टीम ने इस सीरीज को खौफ की नजरों से देखा हैं और वहीं कुछ खिलाड़ियों ने इस दौरे से अपना नाम भी वापस ले लिया है. इस बीच एक पाकिस्‍तानी मंत्री ने इसके पीछे भारत पर साजिश का दोष मढ़ा है. मंत्री एफ चौधरी ने ट्वीट कर इस मामले का दोषी भारत को ठहरा दिया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा,”पढ़े लिखे और सूचित खेल कमेंटेटर ने मुझे बताया कि भारत ने श्रीलंका के खिलाड़ियों को धमकी दी है कि यदि वे पाक यात्रा को मना नही करते हैं तो उन्हें आईपीएल से बाहर कर दिया जाएगा. ये वास्तव में एक सस्ती रणनीति है जिसका हिस्सा भारतीय खेल प्राधिकरण है. निंदनीय!.”

वनडे टीम के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने, टी-20 कप्तान लसिथ मलिगा और पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज जैसे सीनियर खिलाड़ियों ने इस  दौरे पर जाने से साफ इनकार कर दिया है. खिलाड़ियों का कहना है कि पाकिस्तान में सुरक्षा को लेकर वह आश्वस्त नहीं हैं.

बता दें कि 10 साल से पहले श्रीलंकाई टीम पाकिस्तान गई थी. पाकिस्तान के लाहौर में दूसरा टेस्ट मैच खेला जाना था. टीम के खिलाफ प्रैक्टिस के लिए गद्दाफी स्टेडियम जा रहे थे, इसी दौरान टीम की बस पर आतंकी हमला हो गया था. आतंकियों ने बस के टायर पर फायरिंग की, इसके बाद बस पर फायरिंग की थी. इस हमले में श्रीलंका के 6 खिलाड़ी घायल हो गए थे, जबकि सात सुरक्षाकर्मी मारे गए थे. श्रीलंका ने हमले के तुरंत बाद दौरा रद्द कर दिया था. टीम के साथ गए कुमार संगकारा, अजंता मेंडिस, तिलन समरवीरा सहित 6 खिलाड़ी घायल हुए थे. समरवीरा के पैर में गोली लगी थी. इन तमाम हादसों के डर से श्रीलंका टीम दोबारा ये कदम उठाने से डर रही हैं.

पाकिस्तान ने श्रीलंका के साथ होने वाली इस घरेलू सीरीज के लिए तारीखों का भी ऐलान कर दिया है. पाकिस्तान और श्रीलंका को कराची के नेशनल स्टेडियम में 27 सितम्बर, 29 सितम्बर और दो अक्टूबर को तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है. इसके बाद दोनों टीमें लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में पांच, सात और नौ अक्टूबर को तीन मैचों की टी-20 सीरीज खेलेगी. इसके बाद श्रीलंका भी दिसंबर में दो मैचों की विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के लिए पाकिस्तान की मेजबानी करेगी.