इंडियन क्रिकेटर्स एसोसिएशन (आईसीए) के प्रमुख अशोक मल्होत्रा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के नव-निर्वाचित अध्यक्ष सौरव गांगुली और सुनील गावस्कर को आईसीए का हिस्सा बनाना चाहते हैं.

आईएएनएस से बात करते हुए सूत्रों ने पुष्टि की है कि मल्होत्रा न केवल गांगुली और गावस्कर को आईसीए की मानत सदस्यता प्रदान करना बल्कि पूर्व खिलाड़ियों की पेंसन पर भी दोबारा काम करना चाहते हैं.

पढ़ें:- रांची टेस्ट: खराब रोशनी के चलते जल्दी खत्म हुआ दिन का खेल; दक्षिण अफ्रीका 488 रन से पीछे

गांगुली और गावस्कर को सदस्यता देने के मामले में मल्होत्रा ने कहा, “हम गावस्कर और गांगुली दोनों को आईसीए का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करेंगे. खेल के दिग्गजों के बिना आप क्रिकेटर्स एसोसिएशन कैसे हो सकते हैं? अब जब गांगुली अगले बीसीसीआई अध्यक्ष हैं, तो हम चाहते हैं कि उनकी उपस्थिति हो. लेकिन हां, हिम हितों के टकराव के मुद्दे से बचने के लिए उन्हें मानद सदस्यता सौंपना चाहेंगे.”

आईसीए के करीब 1,500 सदस्य हैं. मल्होत्रा निर्विरोध चुने गए, लेकिन बीसीसीआई की सर्वोच्च परिषद में पुरुष आईसीए प्रतिनिधि के रूप में चुने जाने के लिए अंशुमान गायकवाड़ ने कीर्ति आजाद और राकेश धुर्वे को हराया. शांता रंगास्वामी एकमात्र महिला उम्मीदवार थीं और स्वचालित रूप से चुनी गईं.

पढ़ें:- रोहित शर्मा ने जड़ा टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक, बनाए कई रिकॉर्ड

हितेश मजूमदार को सचिव चुना गया और वी कृष्णमूर्ति को कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया. यह पहली बार है कि बीसीसीआई ने एक खिलाड़ी संघ को मान्यता दी है. लोढ़ा पैनल ने अपने प्रस्तावों में इसकी जोरदार सिफारिश की थी.

आईसीए का फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल क्रिकेटर्स एसोसिएशन (एफआईसीए) से कोई संबंद्ध नहीं है और केवल सन्यास ले चुके भारतीय क्रिकेटरों को ही आईसीए का हिस्सा बनने की अनुमति है.

पेंशन पर मल्होत्रा ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि प्रथम श्रेणी स्तर पर खेल चुके पूर्व खिलाड़ी भी पेंशन प्राप्त करने के योग्य हों. इसके अलावा, वह पूर्व खिलाड़ियों को पेंशन के रूप में दी गई राशि को फिर से काम करना चाहता है.