भारतीय बैंडमिंटन स्टार पीवी सिंधू (PV Sindhu) ने रविवार को टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में चीन की बिंग जियाओ को सीधे गेम में हराकर महिला एकल स्पर्धा का कांस्य पदक जीता और ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी। दरअसल सिंधू रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता हैं।Also Read - Deepika Padukone ने PV Sindhu के साथ खेला बैडमिंटन, फैन्स बोले- 'बायोपिक की हो रही है तैयारी'!

सिंधू से पहले दिग्गज पहलवान सुशील कुमार बीजिंग 2008 खेलों में कांस्य और लंदन 2012 खेलों में रजत पदक जीतकर ओलंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे। Also Read - OMG! पी वी सिंधु और दीपिका पादुकोण नज़र आये एक साथ वर्ली में, संजय दत्त भी किए गए स्पॉट | Exclusive Video

इस ऐतिहासिक जीत के बाद सिंधू को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) के अलावा कई पूर्व खिलाड़ियों से शुभकामनाएं मिली। Also Read - उत्कृष्टता हासिल करने के लिए विराट कोहली को फॉलो करना चाहते हैं पीआर श्रीजेश

मैच के बाद सिंधू ने कहा, “इससे मुझे बहुत खुशी हो रही है क्योंकि मैंने इतने सालों तक कड़ी मेहनत की है। मेरे अंदर बहुत सारी भावनाएं चल रही थीं – क्या मुझे इस बात से खुश होना चाहिए कि मैंने कांस्य जीता या इस बात का दुख कि मैंने फाइनल में खेलने का अवसर खो दिया? लेकिन कुल मिलाकर, मुझे इस एक मैच के लिए अपनी भावनाओं को भुला अपना सर्वश्रेष्ठ देना पड़ा। मैं वास्तव में खुश हूं और मुझे लगता है कि मैंने वास्तव में अच्छा किया है। मेरे देश के लिए पदक प्राप्त करना गर्व का क्षण है।”

उन्होंने कहा, “मैं बहुत खुश हूं। मैं इस पल का आनंद लेने जा रही हूं। मेरे परिवार ने मेरे लिए कड़ी मेहनत की है और बहुत प्रयास किया है इसलिए मैं बहुत आभारी हूं। और मेरे प्रायोजकों ने मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है इसलिए मैं उन्हें धन्यवाद देना चाहती हूं और इस पल का आनंद लेना चाहती हूं। बहुत सारे भारतीय प्रशंसकों ने मुझे अपना प्यार और समर्थन दिखाया और मैं उनमें से हर एक की बहुत आभारी हूं।”

दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने मुसाहिनो फॉरेस्ट स्पोर्ट्स प्लाजा में 53 मिनट चले कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की दुनिया की नौवें नंबर की बायें हाथ की खिलाड़ी बिंग जियाओ को 21-13, 21-15 से शिकस्त दी। सिंधू को सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग के खिलाफ 18-21, 12-21 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी।