नई दिल्ली: फीफा विश्व कप में अपना पहला मुकाबला हार चुकीं पोलैंड और कोलंबिया टूर्नामेंट के 21वें संस्करण में पहली जीत दर्ज करने के इरादे से रविवार को मैदान पर उतरेंगी. पोलैंड को अपने पहले मैच में सेनेगल से 1-2 से जबकि कोलंबिया को जापान से 1-2 से मात खानी पड़ी है. पालैंड और कोलंबिया ने अभी अंकों का खाता नहीं खोला है और दोनों ही टीमें ग्रुप में क्रमश: तीसरे और चौथे नंबर पर है. Also Read - India vs New Zealand, 2nd ODI: ऑकलैंड वनडे में इन 2 बदलाव के साथ उतर सकता है भारत

Also Read - IND v WI 3rd T20: निर्णायक T20 में इस प्लेइंग इलेवन के साथ उतर सकती है टीम इंडिया

पोलैंड की टीम सेनेगल के खिलाफ आत्मघाती गोल खा बैठी थी जिसकी बदौलत उसे शिकस्त झेलनी पड़ी थी. अगर यह आत्मघाती गोल नहीं होता तो मैच ड्रॉ पर समाप्त होता है और उसे एक अंक मिल जाते. पोलैंड के फारवर्ड डेविड कोवनिक को इस बार अंतिम एकादश में मौका मिल सकता हैं जो पिछली बार दूसरे हाफ में सबस्ट्यिूट के रूप में खेले थे. Also Read - फीफा विश्व कप क्वालीफायर में बांग्लादेश के खिलाफ पहली जीत दर्ज करने उतरेगी भारतीय फुटबॉल टीम 

आयरलैंड में रनों की बारिश करेंगे टीम इंडिया के ये दो ‘अनमोल रत्न’, देखें VIDEO

वहीं सेंटर बैक के रूप में खेलने वाले कामील ग्लिक कंधे की चोट से पूरी तरह उबर चुके हैं लेकिन इसके बावजूद अगले मैच में उनका खेलना संदिग्ध लग रहा है. पिछले मैच में स्टार खिलाड़ी और कप्तान रोबर्ट लेवांडोस्की गेंद हासिल करने के लिए संघर्ष करते नजर आ रहे थे जिसके कारण पालैंड मैच में कुछ खास नहीं कर सका था. टीम चाहेगी कि लेवांडोस्की कोलंबिया के खिलाफ अच्छा खेले.

पालैंड की टीम फीफा विश्व कप के इतिहास में पहला मैच हारने के बाद कभी भी अगले दौर के लिए क्वालीफाई नहीं सकी है. ऐसे में रूस में इस बार उसके पास यह रिकॉर्ड का मौका हो सकता है. टीम विश्व कप इतिहास में अब तक नौ मैच खेले हैं जिसमें उसने केवल दो जीते हैं और सात हारे हैं.

टीम इंडिया का ‘यो-यो टेस्ट’ बना विवाद का कारण, BCCI से पूछे जायेंगे सवाल !

दूसरी तरफ कोलंबिया की टीम भी अपने पिछले प्रदर्शन में सुधार करना चाहेगी. टीम जापान के खिलाफ मुकाबले में छठे मिनट में ही गोल खा बैठी. इससे पता चलता है कि टीम का डिफेंस कमजेार है और पोलैंड उसके इस डिफेंस में सेंध लगा सकती है.

कोलंबिया के जेम्स रोड्रिग्यूज इस मैच में टीम का हिस्सा हो सकते हैं जो पिछले मैच में सबस्ट्यिूट के रूप में खेले थे. कार्लोस सांचेज को येलो कार्ड मिलने के बाद टीम 87 मिनट तक 10 खिलाड़ियों के साथ खेली थी.

VIDEO: टीम इंडिया ने जीता नरेन्द्र मोदी का दिल, प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ में की तारीफ

कोलंबिया की टीम ने विश्व कप में यूरोपियन देशों के खिलाफ अब तक नौ मैच खेले हैं जिसमें उसने केवल दो जीते हैं जबकि पांच हारे हैं और दो ड्रॉ रहे हैं. कोलंबिया को ये दो जीत 1994 में स्विटजरलैंड के खिलाफ और 2014 में यूनान के खिलाफ मिली थी.

टीम ने विश्व कप इतिहास में अब तक 19 मैच खेले हैं और इनमें से एक भी गोल रहित नहीं रहा है. विश्व कप के इतिहास में कोलंबिया और पोलैंड पहली बार एक-दूसरे के खिलाफ मुकाबले में उतरेंगे. टूनार्मेंट में बने रहने के लिए दोनों टीमों के पास बस जीत ही एकमात्र विकल्प है.