कोविड-19 वैश्विक महामारी  (COVID-19 Pandemic) से भारत में अब तक 29 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. इससे संक्रमित मरीजों की संख्या 1000 को पार कर गई है वहीं दुनिया भर में कोरोनावायरस से अब तक 32 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है वहीं 7 लाख से अधिक लोग इसकी चपेट में हैं. कोरोना वायरस से निपटने के लिए दुनिया भर में खिलाड़ी दान दे रहे हैं. हालांकि सोशल मीडिया पर यूजर्स उनके योगदान को लेकर सवाल उठा रहे हैं. कई अपनी धनराशि का खुलासा कर रहे हैं तो कइ इसे गुप्त रख रहे हैं.Also Read - इजराइल में घूमिये ये 10 खूबसूरत जगहें, टूरिस्टों को अब नहीं कराना होगा RT-PCR टेस्ट

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) का कहना है कि कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए वित्तीय मदद को संख्या से नहीं आंका जाना चाहिए और योगदान करने वालों की राशि को लेकर सवाल पूछना हैरानी की बात है. Also Read - हफ्ते में सिर्फ 3 दिन जाना होगा ऑफिस, 8 फीसदी बढ़ेगी सैलरी; जानिए - कौन सी कंपनी दे रही है यह सुविधा

एशिया कप के रद्द होने की खबर से इंकार नहीं किया जा सकता: बीसीसीआई अधिकारी Also Read - 150 की स्ट्राइक रेट से संजू सैमसन ने पूरे लिए 400 IPL रन फिर भी भारतीय टी20 टीम में क्यों नहीं मिला मौका

कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए दुनिया भर में खिलाड़ी दान दे रहे हैं. हालांकि सोशल मीडिया पर यूजर्स उनके योगदान को लेकर सवाल उठा रहे हैं और ओझा उनके इस रवैये से हैरान हैं.

पिछले महीने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने वाले ओझा ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘यह देखकर काफी हैरानी हो रही है कि जो लोग इस संकट की घड़ी में मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं, उन पर सवाल (किसने कितनी राशि दान में दी है) उठाए जा रहे हैं. मदद तो मदद ही होती है, इसे आंका नहीं जा सकता. हमें उनका शुक्रगुजार होना चाहिए.’


लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी IPL 2020 के आयोजन में आएगी ये मुश्किल

दिग्गज सचिन तेंदुलकर, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के वर्तमान अध्यक्ष सौरव गांगुली, सुरेश रैना, अजिंक्य रहाणे और कप्तान विराट कोहली ने भी दान दिया है. कोहली ने अपनी धनराशि का खुलासा नहीं किया है जबकि अन्य खिलाड़ियों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी रकम बताई है.