दबंग दिल्ली और बंगाल वॉरियर्स की टीमें शनिवार को अहमदाबाद में प्रो कबड्डी लीग (Pro Kabaddi Final 2019, PKL 7) के 7वें सीजन के फाइनल में आमने-सामने होंगी. दोनों टीमें पहली बार फाइनल में पहुंची हैं. ऐसे में जो भी टीम जीतेगी वो पहली बार चैंपियन बनेगी.

जसप्रीत बुमराह की वापसी में देरी, बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज में नहीं लेंगे हिस्सा: रिपोर्ट

पहले सेमीफाइनल में दबंग दिल्ली (Dabang Delhi) ने मौजूदा चैंपियन बेंगलुरू बुल्स को मात दी थी जबकि बंगाल वॉरियर्स (Bengal Warriors) ने यू मुंबा (U Mumba) को हराकर खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया है.

दिल्ली का दारोमदार नवीन कुमार पर होगा

मौजूदा सीजन में दबंग दिल्ली (Dabang Delhi) ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है. नवीन कुमार (Naveen Kumar) के लिए यह सीजन शानदार रहा है जिन्होंने अब तक 21 सुपर-10 लगा चुके हैं. ऐसे में इस स्टार खिलाड़ी से दिल्ली को फाइनल में भी दमदार प्रदर्शन की उम्मीद होगी.

रवींद्र पहल पर टैकल की जिम्मेदारी होगी

दबंग दिल्ली की ओर से जिन खिलाड़ियों ने मौजूदा सीजन में शानदार प्रदर्शन किया है उनमें रेडिंग में चंद्रन रंजीत और विजय के अलावा डिफेंडिंग में रवींद्र पहल (Ravinder Pahal) पर रहेगी जो टीम के लिए सबसे ज्यादा टैकल अंक लेने वाले खिलाड़ी रहे हैं. रवींद्र ने इस सीजन 59 टैकल अंक लिए हैं. विशाल माने और अनिल कुमार, जोगिंदर नरवाल दिल्ली के डिफेंस को मजबूती देंगे.

बंगाल को फाइनल में भी कप्तान मनिंदर की सेवाएं नहीं मिल पाएगी

बंगाल वॉरियर्स को कप्तान मनिंदर (Maninder) के रूप में तगड़ा झटका लगा है. मनिंदर फाइनल में भी नहीं खेल पाएंगे. सेमीफाइनल में कप्तान के बगैर उतरी बंगाल वॉरियर्स ने जीत हासिल की थी लेकिन खिताबी मुकाबले में दिल्ली जैसी मजबूत टीम के सामने मनिंदर का ना होना उसके लिए परेशानी का सबब बन सकता है.

शोएब अख्तर बोले- गारंटी के साथ कह सकता हूं कि सरफराज अहमद को अब टीम में जगह नहीं मिलेगी

मनिंदर की गैरमौजूदगी में सुकेश हेगड़े, के. प्रपंजन और मोहम्मद नबीबक्श की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं. डिफेंडिंग में बलदेव सिंह बंगाल की मजबूत कड़ी होंगे.

‘कोई नहीं जानता कि कौन विजेता बनने का प्रबल दावेदार होगा क्योंकि दोनों ही टीमें अच्छी हैं. हमारे खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे.’- कृष्ण कुमार हुड्डा (Krishn Kumar Hudda), कोच, दबंग दिल्ली

मेरा मानना है कि रेडर और डिफेंडर दोनों को अपना सर्वश्रेष्ठ करना होगा. हालांकि उनकी मेहनत के अलावा भाग्य भी भूमिका निभाएगा. मैं खुश हूं कि दो नई टीमें फाइनल में खेल रही हैं.’-बी सी रमेश (BC Ramesh), कोच, बंगाल वॉरियर्स