पटना पाइरेट्स ने सोमवार को अपने घर में मिली हार का हिसाब दबंग दिल्ली से बराबर कर लिया। उसने दिल्ली को एक अंक से हराया और सेमीफाइनल में पहुंचने की उसकी उम्मीदों को तगड़ा झटका दिया। दिल्ली ने पटना में मौजूदा चैम्पियन पाइरेट्स को बुरी तरह हराया था। उसके बाद से पटना ने अच्छा खेल दिखाते हुए अपने लिए सेमीफाइनल में जगह पक्की की लेकिन दिल्ली के लिए दिन ब दिन राह मुश्किल होती गई और दिल्ली चरण की शुरुआत तक उसे सेमीफाइनल में पहुंचने के Ýिए अपने चारों मैच जीतने थे।

दिल्ली ने अपने घर में पहले मैच में बंगाल वॉरियर्स को हराया लेकिन मिराज शेख और काशीलिंग अदाके के बेहतरीन खेल के बाद भी वह पटना से 32-31 के अंतर से हार गया।

काशी और मिराज ने हीरो की तरह खेलते हुए अपनी टीम के लिए 11-11 अंक बटोरे लेकिन अंतिम रेड में काशी को आउट कर पटना ने करो या मरो की स्थिति पर विजय हासिल की।

आठ टीमों की तालिका में पहले स्थान पर काबिज कप्तान प्रदीप नरवाल ने नौ अंक जुटाए जबकि राजेश मोंडल ने सात अंक हासिल किए। पटना ने एक बार दिल्ली को आलआउट किया।

पांच मौकों पर उसने दिल्ली को एक खिलाड़ी तक सीमित कर दिया था लेकिन मिराज और काशी ने दिल्ली को आलआउट होने से बचा लिया। अगर ऐसा नहीं हुआ होता तो पटना बड़े अंतर से यह मैच जीत गया होता।

इस जीत के बाद पटना के 13 मैचों से 52 अंक हो गए हैं जबकि दिल्ली 27 अंकों के साथ सातवें स्थान पर है। उसके खाते में दो मैच और हैं और उन्हें जीतकर वह अपने लिए आगे का रास्ता तैयार कर सकती है।

पटना पाइरेट्स ने सोमवार को अपने घर में मिली हार का हिसाब दबंग दिल्ली से बराबर कर लिया। उसने दिल्ली को एक अंक से हराया और सेमीफाइनल में पहुंचने की उसकी उम्मीदों को तगड़ा झटका दिया। दिल्ली ने पटना में मौजूदा चैम्पियन पाइरेट्स को बुरी तरह हराया था। उसके बाद से पटना ने अच्छा खेल दिखाते हुए अपने लिए सेमीफाइनल में जगह पक्की की लेकिन दिल्ली के लिए दिन ब दिन राह मुश्किल होती गई और दिल्ली चरण की शुरुआत तक उसे सेमीफाइनल में पहुंचने के Ýिए अपने चारों मैच जीतने थे।

दिल्ली ने अपने घर में पहले मैच में बंगाल वॉरियर्स को हराया लेकिन मिराज शेख और काशीलिंग अदाके के बेहतरीन खेल के बाद भी वह पटना से 32-31 के अंतर से हार गया।

काशी और मिराज ने हीरो की तरह खेलते हुए अपनी टीम के लिए 11-11 अंक बटोरे लेकिन अंतिम रेड में काशी को आउट कर पटना ने करो या मरो की स्थिति पर विजय हासिल की।

आठ टीमों की तालिका में पहले स्थान पर काबिज कप्तान प्रदीप नरवाल ने नौ अंक जुटाए जबकि राजेश मोंडल ने सात अंक हासिल किए। पटना ने एक बार दिल्ली को आलआउट किया।

पांच मौकों पर उसने दिल्ली को एक खिलाड़ी तक सीमित कर दिया था लेकिन मिराज और काशी ने दिल्ली को आलआउट होने से बचा लिया। अगर ऐसा नहीं हुआ होता तो पटना बड़े अंतर से यह मैच जीत गया होता।

इस जीत के बाद पटना के 13 मैचों से 52 अंक हो गए हैं जबकि दिल्ली 27 अंकों के साथ सातवें स्थान पर है। उसके खाते में दो मैच और हैं और उन्हें जीतकर वह अपने लिए आगे का रास्ता तैयार कर सकती है।