नई दिल्ली: पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी सोमवार को कश्मीर में बारामूला जिले के कुंजर पहुंचे. यहां वे भारतीय सेना द्वारा आयोजित चिनार क्रिकेट प्रिमियर लीग में विशिष्ट अतिथि के तौर पर हिस्सा लेने आए थे. यहां प्रशंसकों की भीड़ भारी संख्या में उन्हें देखने पहुंची लेकिन इस भीड़ में कुछ लोगों ने पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी शाहिद अफरीदी के समर्थन में नारे लगाए. Also Read - Jammu and kashmir DDC Polls: जम्मू कश्मीर की 43 सीटों पर आज जिला विकास परिषद के चुनाव, सुरक्षा के कड़े इंतजाम, जानें ताजा अपडेट

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में धोनी की मौजूदगी में कुछ लोग बूम बूम अफरीदी के नारे लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं. ये नारेबाजी उस वक्त हुई जब सेना में लेफ्टिनेंट की मानद रैंक हासिल धोनी नवोदित खिलाड़ियों से बातचीत कर रहे थे.

पाकिस्तान के साथ क्रिकेट पर पूछा गया सवाल, धोनी ने दिया यह जवाब
इसी मौके पर जब 36 वर्षीय धोनी से पूछा गया कि क्या भारत को पाकिस्तान के साथ क्रिकेट संबंधों को फिर से शुरू करना चाहिए, तो उन्होंने कहा “जब हम क्रिकेट के बारे में बात करते हैं, तो ज्यादातर लोगों की राय में यह एक खेल है, लेकिन जब यह भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज की बात आती है, तो यह उस से बहुत अधिक है. यह एक राजनयिक और राजनीतिक निर्णय भी है.” Also Read - Lanka Premier League 2020 Live Jaffna Stallions vs Galle Gladiators: लंका प्रीमियर लीग के दूसरे मैच में कब-कहां और किस टीम के बीच होगी टक्कर, जानें डिटेल

खेल और राजनीति को अलग रखने की बात पर धोनी कहते हैं कि क्रिकेट से बहुत कमाई होती है जिसका असर देश की अर्थव्यवस्था पर पर पड़ता है इसलिए क्रिकेट खेल से कहीं ज्यादा है. उन्होंने कहा कि इसलिए भारत और पाकिस्तान के बीच सीरीज के निष्कर्ष पर पहुंचने का बड़ा फैसला सरकार पर छोड़ देना चाहिए. Also Read - IND vs AUS: क्‍या आप जानते हैं Team India New Jersey पर तीन स्‍टार का क्‍या है मतलब ?

बता दें 2012-13 से भारत और पाकिस्तान के बीच कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई. जिसमें भारत में हुए दो टी20 और तीन वनडे शामिल थे. जून 2014 में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने 2015 और 2023 के बीच छह द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिए मेलबर्न में आईसीसी वार्षिक सम्मेलन के दौरान एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. लेकिन दोनों देशों के बीच राजनीतिक तनाव की वजह से अभी तक यह सीरीज शुरू नहीं हो पाई है.