देश की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से मुलाकात की थी. सिंधु इस बार टोक्यो ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतकर भारत लौटी थीं. पीएम मोदी ने सभी पदक विजेताओं के लिए एक खास मुलाकात का कार्यक्रम आयोजित किया था. इस मौके पर सिंधु ने प्रधानमंत्री को अपना वह ऐतिहासिक रैकेट भेंट कर दिया, जिससे उन्होंने टोक्यो ओलंपिक स्पर्धाओं में कांस्य पदक भारत की झोली में डाला था. अब सिंधु का यह रैकेट नीलाम हो रहा है. पीएम ने एक बेहद खास मकसद के लिए यह कदम उठाया है.Also Read - Pradhan Mantri Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana आज होगी लॉन्च, पीएम मोदी यूपी दौरे पर

दरअसल प्रधानमंत्री को जो भी उपहार मिले हैं उनका ई-ऑक्शन किया जा रहा है. इस ऑक्शन से जुटाई गई रकम को देश में एक खास मकसद के लिए खर्च किया जाएगा. सिंधु का बैडमिंटन भी उन वस्तुओं की सूची में शामिल है जिनका ऑक्शन किया जा रहा है. यह ई-ऑक्शन शुरू हो चुका है, जो 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलेगा. Also Read - खिलाड़ियों को समय-समय पर बायो बबल से आराम दिए जाने की जरूरत है: विराट कोहली

सिंधु की उपलब्धि की निशानी को आप हासिल कर गौरवान्वित हो सकते हैं. इसके लिए बस आपको www.pmmementos.gov.in पर लॉग ऑन कर ई-ऑक्शन में हिस्सा लें. इस ऑक्शन में पीवी सिंधु के रैकेट का बेस प्राइज 80 लाख रखा गया है. इस बैडमिंटन के हैंडल पर पीवी सिंधु का सिग्नेचर भी है, जो इसे और भी खास बना रहा है. Also Read - PM Narendra Modi ने ट्विटर पर बदली अपनी प्रोफाइल पिक्चर, देखिए कौन सी नई फोटो लगाई

इससे पहले भी प्रधानमंत्री को मिलने वाले उपहारों की नीलामी होती रही है. आखिरी बार साल 2019 में ऐसा ऑक्शन हुआ था. पिछली बार नीलामी में सरकार ने 15 करोड़ 13 लाख रुपये हासिल किए थे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में इस पूरी राशि को गंगा को स्वच्छ और निर्मल बनाने हेतु ‘नमामि गंगे कोश ‘ में जमा किया गया था. इस बार भी ऑक्शन से मिलने वाली राशि ‘नमामि गंगे कोश ‘ को ही दी जाएगी.

पीवी सिंधु (PV Sindhu) वर्ल्ड चैंपियनशिप से लेकर ओलंपिक तक लगातार भारत को लगातार गर्व करने के अवसर प्रदान कर रही हैं. उन्होंने कामयाबी को अपनी आदत बना लिया है और अभी उनका सफर जारी है. सोचिए कि वह बैडमिंटन रैकेट कितना कीमती होगा, जिससे पीवी सिंधु ने इतिहास बनाया. वह रैकेट वाकई बेशकीमती है.

टोक्यो ओलिंपिक-2020 में कांस्य पदक अपने नाम करने वालीं पीवी सिंधु बैडमिंटन इतिहास में भारत के लिए दो मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर हैं. इंडिविजुअल गेम में ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला एथलीट हैं. इससे पहले उन्होंने रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था.