मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन भारतीय महिला शटलर पीवी सिंधू ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में हार के साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गई हैं. सिंधू की हार के बाद इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट से भारतीय चुनौती भी खत्म हो गई है. रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट 24 वर्षीय सिंधू ने पहला गेम जीतकर शानदार शुरूआत की लेकिन वह इस लय को आखिर तक कायम नहीं रख सकीं. सिंधू को जापान की नोजोमी ओकुहारा ने 68 मिनट में पराजित कर दिया. अंतिम आठ के मुकाबले में ओकुहारा ने सिंधू को 12-21, 21-15, 21-13 से मात दी. Also Read - याद नहीं पिछली बार कब इतना लंबा ब्रेक लिया था : पीवी सिंधु

आईपीएल स्थगित होने के बाद BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली बोले-सुरक्षा सर्वोपरि है Also Read - पुलिसकर्मियों और डॉक्टरों पर पत्थर फेंके जाने से दुखी हैं एथलीट हिमा दास, PM को बताया

इस मैच से पहले सिंधू का ओकुहारा पर रिकॉर्ड 9-7 था. उन्होंने विश्व चैंपियनशिप 2019 के फाइनल में इस जापानी खिलाड़ी को मात दी थी. सिंधू ने पहले गेम में 3-0 से बढ़त बनानी शुरू की और इसे 7-2 तक ले गईं. ओकुहारा ने अंतर कम करने की कोशिश में स्कोर 5-8 कर दिया लेकिन ब्रेक तक सिंधू ने पांच अंक की बढ़त बनाये रखी और ओकुहारा की गलती से जल्द ही 21-12 से इसे जीत लिया. Also Read - कोरोना से लड़ने के लिए सिंधु ने दिए 10 लाख रुपये दान, मदद के लिए आगे आए पाकिस्तान और बांग्लादेश के क्रिकेटर

ओकुहारा ने इसके बाद सिंधू को बैकफुट पर रखने की कोशिश की और 5-2 से बढ़त बना ली और फिर उन्होंने तेज रैलियों से भारतीय को गलतियां करने पर मजबूर करते हुए इसे 7-3 कर दिया.

न्यूजीलैंड क्रिकेट ने IPL में भागीदारी का फैसला खिलाड़ियों के ऊपर छोड़ा

हालांकि सिंधू ने ओकुहारा की बेजां गलतियों का फायदा उठाया और अंतर कम किया जो 8-10 हो गया. ब्रेक तक जापानी खिलाड़ी ने तीन अंक की बढ़त बनाये रखी. सिंधू इसके बाद रैलियों में लय नहीं बना सकी और ओकुहारा ने 16-9 की बढ़त बना कर इसे 21-15 से अपने नाम कर 1-1 से बराबरी हासिल कर ली.

निर्णायक गेम में ओकुहारा का दबदबा जारी रहा जिसमें उन्होंने 5-2 से शुरूआत की. जापान की खिलाड़ी ने सिंधू को आक्रामक होने का मौका नहीं दिया और ब्रेक तक 11-5 से बढ़त बना ली. भारतीय के लिए गलतियों का दौर जारी रहा और ओकुहारा 19-11 से आगे हो लीं. अंत में जापान की खिलाड़ी ने सात मैच प्वाइंट जुटाकर अगले दौर में प्रवेश किया.

इससे पहले अनुभवी साइना नेहवाल, पी कश्यप सहित कई अन्य भारतीय खिलाड़ी शुरुआती दौर में ही बाहर हो गए थे. आगामी टोक्यो ओलंपिक को देखते हुए भारतीय खिलाड़ियों के लिए उपरोक्त टूर्नामेंट काफी अहम है. वर्ल्ड चैंपियन बनने के बाद सिंधू का फॉर्म कुछ खास नहीं रहा है और वह लगातार निर्णायक मैच में हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो रही हैं.