भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन का मानना है कि मौजूदा भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण विश्व क्रिकेट में ‘सबसे खतरनाक आक्रमण में से एक’ है क्योंकि इसमें हर ‘स्पैल’ में मौके बनाने की काबिलियत है.

मैंने या मुशफिकुर ने उतने रन नहीं बनाए जितने बनाने चाहिए थे : मोमिनुल हक

भारतीय टीम में जसप्रीत बुमराह मौजूद नहीं हैं लेकिन मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव ने खतरनाक गेंदबाजी की जिससे बांग्लादेशी बल्लेबाज उन्हें खेल नहीं पा रहे थे और मेहमान टीम शुरुआती टेस्ट की पहली पारी में महज 150 रन पर सिमट गई.

अश्विन ने पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, ‘मुझे लगता है कि शमी, इशांत और उमेश मिलकर काफी अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं और अगर आप बुमराह को भी इसमें शामिल कर लो तो मुझे लगता है कि यह दुनिया का सर्वश्रेष्ठ नहीं तो सबसे खतरनाक में से एक गेंदबाजी आक्रमण में शुमार होगा.’

डेविड वॉर्नर की स्लेजिंग ने बेन स्टोक्स को दी ताकत, ठोक दी मैच विनिंग सेंचुरी

उन्होंने कहा, ‘और मैं आगाह करना चाहता हूं कि लोग इस टिप्पणी के आधार पर मेरा आकलन नहीं करें. लेकिन यह सभी के सामने है और हाल के समय में मैंने जो देखा है यह उसमें सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण में से एक है.’

इस ऑफ स्पिनर ने कहा, ‘कभी-कभार आपको महसूस होता है कि वे जो भी स्पैल करते हैं, उसमें कुछ न कुछ होता है या फिर वे इसे ऐसा बना देते हैं.’

‘मेरा काम विकेट चटकाना है’

अश्विन ने हालांकि इस बात से इनकार किया कि वह और रविंद्र जडेजा अपना तरीका बदल देंगे क्योंकि तेज गेंदबाजों ने हावी होना शुरू कर दिया है.

उन्होंने कहा, ‘बतौर गेंदबाज, मैं व्यक्तिगत रूप से इसे इस लिहाज से नहीं देखता. मेरा काम विकेट झटकना है और इसका फायदा उठाने की कोशिश करना है कि अगर तेज गेंदबाज विकेट नहीं ले पा रहे हैं तो विकेट दिलाइए.’

‘तेज गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी की’

अश्विन ने घरेलू सरजमीं पर 250 टेस्ट विकेट की भी उपलब्धि भी हासिल की. उन्होंने साथ ही कहा, ‘यह कहने से मैं तेज गेंदबाजों का योगदान कम नहीं कर रहा हूं. उन्होंने अद्भुत गेंदबाजी की, विशेषकर अगर आप उमेश को पिछले कुछ वर्षों में 2016 के बाद से देखो. उसने हमेशा ही शुरूआती विकेट हासिल किए हैं. इशांत भी शानदार रहे हैं और शमी शायद अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ लय में है.’