R Ashwin Australia: स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने शनिवार को कहा कि बायो-बबल में जीवन काफी चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि इसमें रोजमर्रा की जरूरतों के लिये जूझना पड़ता है और आस्ट्रेलिया में कभी कभार भारतीय टीम को ऐसे होटल के कमरों में ठहरना पड़ा जिसमें ताजा हवा भी नहीं आती थी क्योंकि खिड़कियां खुलती ही नहीं थीं. Also Read - New Zealand Women vs Australia Women: तीसरे वनडे में जीत हासिल कर ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड को क्लीन स्वीप किया

भारतीय टीम के खिलाड़ी पिछले साल अगस्त से बायो-बबल में रह रहे हैं, जब वे संयुक्त अरब अमीरात में 2020 इंडियन प्रीमियर लीग के लिये इकट्ठे हुए थे. इसके बाद आस्ट्रेलिया दौरा हुआ और अब इंग्लैंड का भारत दौरा चल रहा है. Also Read - BCCI अध्यक्ष Sourav Ganguly ने बायो-बबल को बताया चुनौतीपूर्ण, भारतीय खिलाड़ियों को लेकर कही ये बात

अश्विन ने मैच के बाद वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘हमें आस्ट्रेलिया में जहां रखा गया, हमें उन हालात से निपटना था. कभी कभार होटल के बंद कमरे में काफी घुटन होती, उसमें आपको ताजा हवा भी नहीं मिलती थी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘आस्ट्रेलिया में, ऐसे भी हालात थे जब होटल की खिड़कियों में खुलने के लिये जगह भी नहीं थी. 14 दिन या 20 दिन या 25 दिन खिड़की बिना खुले हुए बंद रहना काफी कठिन हो सकता है.’’ Also Read - एक बार फिर Australia की कप्तानी चाहते हैं Steve Smith

(इनपुट भाषा)