नई दिल्ली : भारत के फील्डिंग कोच आर श्रीधर को उम्मीद है कि अगले कुछ वनडे मैचों में रिजर्व खिलाड़ियों को खेलने का मौका मिलेगा क्योंकि टीम प्रबंधन चाहता है कि इस साल होने वाले आईसीसी के 50 ओवर के विश्व कप से पहले सभी खिलाड़ी मैच खेलने के लिए तैयार रहें. फील्डिंग कोच श्रीधर खुश हैं कि टीम तैयार है और गेंदबाजी आक्रमण काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है.Also Read - भारत का आयरलैंड दौरा: VVS लक्ष्मण निभाएंगे टीम इंडिया के कोच की जिम्मेदारी, राहुल द्रविड़ का क्या!

Also Read - धनाश्री ने डीप नेक गाउन में शेयर की HOT तस्वीरें, ग्लैमरस लुक देख उड़े Yuzvendra Chahal के होश- दिया यह रिएक्शन

श्रीधर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ गुरुवार को हैमिल्टन में होने वाले चौथे वनडे से पहले कहा, ‘‘जीत ऐसी आदत है जिसे आप जारी रखना चाहते हैं और जोश को कम नहीं होने देना चाहते लेकिन हमें रिजर्व खिलाड़ियों को भी मैच खेलने का मौका देना होगा क्योंकि विश्व कप से पहले सिर्फ सात मैच बचे हैं.’’ Also Read - राहुल द्रविड़ की सादगी ने जीता फैंस का दिल, बुक इवेंट में सबसे पीछे बैठे आए नजर

अधिकांश समय स्थिति के अनुसार पहली पसंद वाली प्लेइंग इलेवन लगभग तय होती है और दबाव की स्थिति में जब रिजर्व खिलाड़ी उतरते हैं तो मैच नहीं खेलने के कारण वे लय में नजर नहीं आते. श्रीधर ने कहा, ‘‘हम विश्व कप के लिए जाने से पहले ऐसी स्थिति नहीं चाहते जहां मुख्य एकादश खेलती रहे और विश्व कप में जब अचानक अहम मैच खेलना हो तो रिजर्व खिलाड़ी मैच खेलने का पर्याप्त समय नहीं मिलने के कारण इसके लिए तैयार नहीं हों. मुझे यकीन है कि टीम प्रबंधन भी इस बारे में सोच रहा है.’’

INDvsNZ: भारत की प्लेइंग इलेवन में बदलाव संभव, इस खिलाड़ी को मिलेगा मौका

हैदराबाद के इस पूर्व प्रथम श्रेणी क्रिकेटर का मानना है कि इंग्लैंड की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए भारत को तैयारी के लिए न्यूजीलैंड से बेहतर हालात नहीं मिल सकते. श्रीधर ने कहा, ‘‘जून में इंग्लैंड में जैसे हालात होंगे उसके अभ्यास के लिए न्यूजीलैंड से बेहतर जगह नहीं हो सकती. इसलिए निश्चित तौर पर हम ऐसी स्थिति तैयार करना चाहते हैं जहां हम अपने रिजर्व खिलाड़ियों को खेलने का मौका दें.’’

मौजूदा सत्र में भारत ने दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और अब न्यूजीलैंड में वनडे सीरीज जीती है और इस दौरान टीम को सिर्फ इंग्लैंड में हार का सामना करना पड़ा. फील्डिंग कोच का मानना है कि अनुभव और गेंदबाजी इकाई का प्रदर्शन दो पहलू हैं जिसने अंतर पैदा किया. श्रीधर ने कहा, ‘‘भारत की बल्लेबाजी हमेशा से मजबूत रही है लेकिन अब गेंदबाजों ने भी मैच के विभिन्न चरण में विकेट लेना शुरू कर दिया है. वे भुवी (भुवनेश्वर कुमार) और (मोहम्मद) शमी हो या लेग स्पिनर (कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल), उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ और अब यहां ऐसा किया है.’’

विराट को 5-0 की जीत का तोहफा देंगे रोहित, न्यूजीलैंड का पूरी तरह होगा काम तमाम

उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने (कुलदीप और चहल) 24-25 मैचों में मिलकर संभवत: 100 विकेट हासिल किए हैं जो शानदार है. खेल के सबसे महत्वपूर्ण चरण का ध्यान रखा जा रहा है. इसके बाद हमारे पास भुवी और (जसप्रीत) बुमराह के रूप में डेथ ओवरों के शानदार गेंदबाज हैं.’’