नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सीईओ राहुल जोहरी के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के मामले को लेकर बिहार क्रिकेट संघ (सीएबी) अब सर्वोच्च न्यायालय पहुंच गई है. सीएबी सचिव आदित्य वर्मा ने अपने वकील जगन्नाथ सिंह के माध्यम से बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी के खिलाफ लगे आरोपों के बारे में शुक्रवार को मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को सूचित किया. वर्मा ने कहा, “सर्वोच्च न्यायालय ने हमसे इस मामले को उस पीठ के सामने रखने के लिए कहा जो बीसीसीआई के मामलों की सुनवाई कर रही है.”

गंभीर ने अफरीदी को दिया करारा जवाब, कहा- चलो तुम्हें डॉक्टर को दिखा लाऊं

उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया में जारी यह रिपोर्ट गलत है कि शीर्ष अदालत ने जोहरी के खिलाफ लगे कथित यौन उत्पीड़न संबंधी याचिका पर सुनवाई से इंकार कर दिया है. दो मई को आईएएनएस की एक रिपोर्ट में कहा गया, “सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को बीसीसीआई सीईओ राहुल जोहरी के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न मामले में किसी भी प्रकार की विशेष सुनवाई करने से इंकार कर दिया है.”

RCBvsSRH: हैदराबाद को प्लेऑफ में जगह बनाने की उम्मीद, बैंगलोर के सामने कड़ी चुनौती

वर्मा ने कहा कि दो मई को कोई सुनवाई निर्धारित नहीं थी. वर्मा ने कहा, “बीसीसीआई के वरिष्ठ वकील को शीर्ष अदालत ने मामले को देखने के लिए कहा था. प्रधान न्यायाधीश ने कहा क्योंकि यह मामला बीसीसीआई का हिस्सा है, इसलिए संस्था को यह देखने की जरूरत है कि मामले में क्या चल रहा है. मामलों की सूची के अनुसार, यह मामला छह मई के लिए सूचीबद्ध किया गया है.” जस्टिस एस.ए बोबडे और ए.एम. सप्रे की पीठ बीसीसीआई मामले को देख रही है.