नागपुर: रणजी ट्रॉफी के इतिहास में सबसे सफल टीम मुंबई रविवार को जब मौजूदा चैम्पियन विदर्भ के खिलाफ एलीट ग्रुप ए मैच में उतरेगी तो खिताबी दौड़ में बने रहने के लिए उसकी नजरें जीत दर्ज करने पर होंगी. ग्रुप ए और ग्रुप बी की संयुक्त तालिका में 41 बार की चैम्पियन मुंबई छह मैचों में 11 अंक के साथ 14वें स्थान पर है जिसमें से शीर्ष की पांच टीमें क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालीफाई करेंगी. इसलिए मुंबई के लिए यह ‘करो या मरो’ का मैच होगा. Also Read - India vs Australia- अगर भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज ड्रॉ हुई तो यह पिछली हार से भी बुरी: Ricky Ponting

Also Read - जोश हेजलवुड ने स्‍वीकारा, शार्दुल-सुंदर उनकी गलती से लंबे समय तक टिक पाए

इस सीजन में पहली जीत की राह देख रही मुंबई को हालांकि दो मुख्य तेज गेंदबाजों, शारदुल ठाकुर और तुषार देशपांडे की वापसी से मजबूती मिलेगी. कप्तान सिद्देश लाड शानदार फॉर्म में हैं, लेकिन उन्हें मौजूदा चैम्पियन पर जीत दर्ज करने के लिए श्रेयष अय्यर, जय विस्टा, विक्रांत औती और अनुभवी आदित्य तारे का साथ चाहिए होगा. Also Read - अगर सीरीज 1-1 से बराबरी पर खत्‍म हुई तो ये ऑस्‍ट्रेलिया के लिए हार के समान होगा: रिकी पोंटिंग

प्रोडुनोवा गर्ल दीपा करमाकर की कहानी…साथी खिलाड़ी ने उन्हें ‘भैंस’ और कोच को कह दिया था ‘गधा’

विदर्भ की टीम 21 अंक के साथ तीसरे स्थान पर है और कप्तान फैज फजल और अनुभवी वसीम जाफर के फॉर्म को देखते हुए मुंबई को उन्हें रोकना आसान नहीं होगा. विदर्भ की टीम ने इस साल छह मैचों में दो जीते हैं लेकिन मुंबई एक भी मैच जीत नहीं पाई है. गौरतलब है कि रणजी ट्रॉफी के इतिहास में 41 बार चैंपियनशिप जीत चुकी मुंबई भारत के घरेलू क्रिकेट में सबसे सफल टीम मानी जाती है.