रणजी ट्रॉफी 2019-20 (Ranji Trophy Final) के फाइनल मुकाबले में चेतेश्‍वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) तबीयत खराब होने के चलते महज 24 गेंदों का सामना करने के बाद मैदान से वापस लौट गए हैं. सौराष्‍ट्र और बंगाल (Saurashtra vs Bengal) के बीच ईडन गार्डन्‍स में खेले जा रहे इस मुकाबले में मेहमान टीम ने पुजारा के वापस पवेलियन लौटने तक चार विकेट खोकर 197 रन बना लिए हैं. Also Read - कोरोनावायरस की भेंट चढ़ा चेतेश्वर पुजारा का Gloucestershire काउंटी चैंपियनशिप करार

रणजी ट्रॉफी का फाइनल खेलने के लिए ही टेस्‍ट स्‍पेशलिस्‍ट चेतेश्‍वर पुजारा अपनी घरेलू टीम सौराष्‍ट्र का हिस्‍सा बने हैं. इस बड़े मैच के लिए रवींद्र जडेजा भी सौराष्‍ट्र का हिस्‍सा बनना चाहते थे, लेकिन बीसीसीआई ने आगामी साउथ अफ्रीका के भारत दौरे (India vs South Africa) को देखते हुए जडेजा को इसकी इजाजत नहीं दी थी. Also Read - गावस्कर-पुजारा ने कोराना से छिड़ी जंग में बढ़ाए मदद को हाथ, जानिए कितनी धनराशि की दान

पढ़ें:- Coronavirus Effect: जो रूट के हाथ न मिलाने के निर्णय पर जस्टिन लैंगर का करारा जवाब, कहा- हमारे पास… Also Read - COVID-19: 'क्वारंटाइन' के बावजूद फिटनेस को प्रतिबद्ध चेतेश्वर पुजारा, बोले-खुशकिस्मत हूं कि मेरे घर में...

चेतेश्‍वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) आम तौर पर भारतीय टीम में नंबर-3 पर बल्‍लेबाजी करते हैं, लेकिन इस रणजी फाइनल के पहले दिन टीम के चार विकेट गिर जाने के बाद भी वो बल्‍लेबाजी के लिए नहीं आए.

पढ़ें:- नई चयनसमिति ने दिए संकेत, टीम इंडिया में वापसी के लिए धोनी को करना होगा ये काम

तबीयत ठीक नहीं होने के कारण वो नंबर-6 पर बल्‍लेबाजी के लिए आए. 24 गेंदों पर पांच रन बनाने के बाद वो असहज महसूस करने लगे. जिसके बाद उन्‍हें वापस पवेलियन ले जाया गया. पुजारा (Cheteshwar Pujara) के स्‍थान पर खेलने के लिए चेतन सकारिया मैदान पर आए.