विश्‍व कप 2019 के बाद से ही भारतीय टीम के सलामी बल्‍लेबाज शिखर धवन बार-बार चोटिल होने के टीम में स्‍थायी तौर पर वापसी नहीं कर पाए हैं. गैर मौजूदगी में केएल राहुल की धमाकेदार पारियों को देखकर लगा शायद अब धवन की वापसी की राहें इतनी आसान नहीं रहेगी. बाएं हाथ के इस बल्‍लेबाज ने बुधवार को रणजी ट्रॉफी मुकाबले में शतक जड़ सभी को यह बता दिया है कि टीम इंडिया में उनका स्‍थान कोई नहीं ले सकता है.

पढ़ें:- इंग्लिश दिग्‍गज ने ICC Test Ranking को बताया कचरा, बोले- इंग्‍लैंड खराब प्रदर्शन…

फिरोजशाह कोटला मैदान में दिल्‍ली और हैदराबाद के बीच मैच के दौरान लोकल ब्‍वाय ने 137 रन की पारी खेली. धवन ने 269 गेंदों का सामना किया. इस दौरान उनके बल्‍ले से 19 चौके और दो छक्‍के निकले. शिखर धवन को श्रीलंका के खिलाफ आगामी तीन मैचों की टी20 सीरीज और इसके बाद ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज में जगह दी गई है.

रोहित शर्मा को टी20 सीरीज के दौरान आराम दिया गया है, ऐसे में श्रीलंका के खिलाफ इस सीरीज में प्‍लेइंग इलेवन में उनका शामिल होना तय माना जा रहा है. ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान रोहित वापसी करेंगे. ऐसे में कप्‍तान के लिए उस वक्‍त किस खिालड़ी को बाहर बैठाया जाए, यह निर्णय लेना काफी मुश्किल होगा.

विश्‍व कप के दौरान ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ मैच के दौरान उंगली में लगी चोट के चलते शिखर धवन बीच में ही इस मैगा इवेंट से बाहर हो गए थे. इसके बाद अगस्‍त में वेस्‍टइंडीज दौरे पर उन्‍होंने टीम में वापसी की. बांग्‍लादेश के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान भी वो बल्‍लेबाजी करते नजर आए, लेकिन इसके बाद वो एक बार फिर चोटिल हो गए. उनके घुटने पर 20 से ज्‍यादा टांके आए.

पढ़ें:- Ranji Trophy मैच से ठीक पहले सौरव गांगुली ने जसप्रीत बुमराह को खेलने से रोका…

धवन के बार-बार चोटिल होने का फायदा केएल राहुल को मिला. राहुल को सीमित ओवरों के क्रिकेट में रिजर्व सलामी बल्‍लेबाज समझा जाता था. उन्‍होंने भारत के धवन की गैर मौजूदगी में एक के बाद एक बड़ी पारियां खेली. विजय हजारे ट्रॉफी और सैय्यद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी में कर्नाटक को खिताब जिताने का श्रेय भी काफी हद तक केएल राहुल की शानदार फॉर्म को ही जाता है.