बेंगलुरू, 20 मार्च | मैजूदा रणजी चैम्पियन कर्नाटक एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए ईरानी ट्रॉफी मैच के चौथे दिन ही शुक्रवार को शेष भारत को 246 रनों से हराकर लगातार दूसरी बार खिताब अपने नाम करने में कामयाब रहा। शेष भारत के सामने 403 रनों का लक्ष्य था लेकिन पूरी टीम 156 रनों पर सिमट गई। कर्नाटक की ओर से श्रेयष गोपाल ने चार सफलता हासिल की। वहीं, अभिमन्यु मिथुन ने शेष भारत के शीर्ष क्रम को करारा झटका देते हुए अपने पहले दो ओवर में ही तीन विकेट चटकाए। यह भी पढ़ें– विश्व कप : पाकिस्तान को हराकर आस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में, भारत से भिड़ेगा

शेष भारत के लिए कप्तान मनोज तिवारी (24) और सलामी बल्लेबाज जीवनजोत सिंह (38) ने चौथे विकेट के लिए 55 रन जरूर जोड़े लेकिन इस जोड़ी के टूटने के साथ ही पूरी टीम ताश के पत्तों की तरह बिखर गई। कनार्टक के एचएस सारथ ने पहले जीवनजोत को अभिषेक रेड्डी के हाथों कैच कराया और फिर कुछ देर बाद श्रीनाथ अरविंद ने मनोज तिवारी को बोल्ड किया।

इसके बाद केदार जाधव ने शेष भारत के लिए 48 गेंदों में 56 रनों की पारी खेली और छह चौकों और तीन छक्कों के साथ आक्रामक तेवर दिखाए। इससे पहले तीसरे दिन के छह विकेट के नुकसान पर 341 रनों से आगे खेलने उतरा कनार्टक दूसरी पारी में 422 रन बनाकर आउट हो गया। मनीष पांडे 123 रन बनाकर नाबाद लौटे। मनीष ने 164 गेंदों की पारी में 12 चौके और तीन छक्के लगाए।

शेष भारत की ओर से शार्दुल ठाकुर को सर्वाधिक पांच सफलताएं मिली। चौथे दिन शार्दुल ने ही चारों विकेट चटकाए। उल्लेखनीय है कि कर्नाटक पहली पारी में वरुण एरॉन की घातक गेंदबाजी के सामने 244 पर सिमट गया था। इसके बाद शेष भारत के बल्लेबाज भी पहली पारी में कुछ खास नहीं कर पाए और केवल 264 रन बना सके।