बेंगलूरू: श्रेयस गोपाल के नाबाद अर्धशतक की मदद से रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल में कर्नाटक ने सौराष्‍ट्र के खिलाफ अपनी कुल बढ़त 276 रनों तक पहुंचा दी, लेकिन उसकी मुश्किलें खत्‍म नहीं हुई हैं. कर्नाटक की दूसरी पारी में दो विकेट ही बचे हैं और सौराष्‍ट्र की टीम में चेतेश्‍वर पुजारा जैसे बल्‍लेबाज हैं. कर्नाटक हर हाल में अपनी बढ़त 350 के करीब पहुंचाना चाहेगा. वहीं, सौराष्‍ट्र इसे 280-285 के करीब ही रखना चाहेगा क्‍योंकि चौथी पारी में 250 से ज्‍यादा के किसी लक्ष्‍य का पीछा करना आसान नहीं होगा. इस मैच के अभी दो दिन शेष हैं और कोई भी टीम फाइनल में अपनी जगह बना सकती है.

सौराष्ट्र को पहली पारी में 236 रन पर आउट करने के बाद कर्नाटक ने तीसरे दिन के अंत में आठ विकेट पर 237 रन बना लिए. उसके पास अब कुल 276 रन की बढ़त हो गई है. गोपाल और अभिमन्यु मिथुन (35) ने नौवें विकेट की नाबाद साझेदारी में 61 रन बनाकर अपनी टीम को बड़ी मुसीबत से उबार लिया. कर्नाटक की टीम 108 के स्‍कोर पर ही पांचवां विकेट खोकर मुश्किल में आ गई थी. तब श्रेयस ने मोर्चा संभाला. हालांकि, मिथुन के अलावा किसी बल्‍लेबाज ने उनका लंबा साथ नहीं दिया. फिर भी छठे विकेट के लिए एस शरत के साथ 21 रन, सातवें विकेट के लिए विनय कुमार के साथ 26 रन और आठवें विकेट के लिए गौतम के साथ 21 रन की साझेदारियां कर गोपाल ने स्‍कोर को 176 तक पहुंचाया. इसके बाद मिथुन ने अंतिम 26 ओवर में सौराष्‍ट्र को विकेट के लिए तरसा दिया.

रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल: रोनित के 5 विकेट से सौराष्‍ट्र पर दबाव, कर्नाटक के पहली पारी के स्‍कोर से अब भी 48 रन पीछे

तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट और बायें हाथ के स्पिनर धर्मेंद्रसिंह जडेजा ने तीन-तीन विकेट लिए. मैच में अभी पूरे दो दिन बाकी है और सौराष्ट्र के लिए 300 के करीब का लक्ष्य मुश्किल नहीं होना चाहिए. क्वार्टर फाइनल में सौराष्ट्र ने उत्तर प्रदेश के खिलाफ 372 रन का लक्ष्य हासिल किया था जो टूर्नामेंट के इतिहास में लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे बड़ी जीत थी. सौराष्ट्र ने अपने शुक्रवार के स्कोर में नौ रन और जोड़कर धर्मेद्रसिंह जडेजा (तीन), जयदेव उनादकट (0) और अर्पित वासवडा (30) के विकेट गंवाए. रोनित मोरे ने 60 रन देकर छह विकेट लिए.

टीम इंडिया में ऑलराउंडर की जगह के लिए कॉम्पिटीशन को अच्‍छा मानते हैं केदार जाधव

कर्नाटक की दूसरी पारी की शुरुआत खराब रही. उनादकट ने तीसरे ही ओवर में रविकुमार समर्थ (पांच) को पवेलियन भेजा. प्रेरक मांकड़ ने कृष्णामूर्ति सिद्धार्थ (8) और करुण नायर को आउट किया. एक छोर मयंक अग्रवाल ने संभाले रखा लेकिन दूसरे छोर पर मनीष पांडे (26) को धर्मेंद्रसिंह जडेजा ने चलता किया. अग्रवाल ने 77 गेंद में छह चौकों की मदद से 46 रन बनाए. गोपाल ने 134 गेंद में दो छक्कों और चार चौकों की मदद से 61 रन बना कर खेल रहे हैं. मिथुन ने 87 गेंद में 35 रन बनाए हैं.