जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी की अगुवाई वाले शानदार तेज गेंदबाजी अटैक के दम पर भारतीय टीम ने आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन रहते हुए साल 2019 को विदा किया। भारत विराट कोहली की कप्तानी में साल 2016 से आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहले नंबर पर बना हुआ है और फिलहाल आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप की सूची में भी शीर्ष पर है। लेकिन इस उपलब्धि के लिए जहां एक तरफ तेज गेंदबाजों की तारीफ होती है, वहीं कोहली की कप्तानी पर सवाल किए जाते हैं। हालांकि टीम के कोच रवि शास्त्री इसे बकवास बताते हैं।

पूर्व क्रिकेटर ने आईएनएस को दिए इंटरव्यू में कहा, “मैंने अपने जीवन में एक परफेक्ट कप्तान नहीं देखा। आप ऐसे कप्तान देखेंगे, जिनके मजबूत और कमजोर पक्ष अलग-अलग होंगे। उनके पास एक जगह मजबूती हो सकती है तो दूसरी तरफ वो पिछड़े हुए हो सकते हैं और वहां कोई और बेहतर हो सकता है। इसलिए आपको आखिर में परिणाम देखने होते हैं।”

उन्होंने कहा, “विराट से साथ ये है कि वो हर दिन सुधार कर रहे हैं। वो मैदान पर जो जुनून, ऊर्जा लेकर आते हैं, वो अतुलनीय है। मैंने किसी और कप्तान को इस तरह की ऊर्जा मैदान पर लाते हुए नहीं देखा। हां, रणनीति के हिसाब से कुछ जगहें ऐसी हैं, जहां समय के साथ, अनुभव के साथ वो और बेहतर होंगे।”

सचिन तेंदुलकर, एमएस धोनी के बाद आर्मी से जुड़ा ये श्रीलंकाई क्रिकेटर

कोहली अकेले नहीं है जिनकी आलोचना होती है, कोच शास्त्री भी आए दिन किसी ना किसी कारण से ट्रोल होते रहते हैं लेकिन उन्हें इससे फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा, “ये भारतीय क्रिकेट का हिस्सा है। इसमें कुछ नया नहीं है। 2014 में मैंने जब पहली बार ये पद संभाला था तब से मैं ये देख रहा हूं। कुछ नहीं बदला है। ये इस देश का क्रिकेट के प्रति प्यार है। वो चाहते हैं कि टीम हर दिन अच्छा करे।”