रवि शास्त्री को टीम इंडिया के नए कोच पद की रेस में सबसे आगे माना जा रहा है. टीम इंडिया के नए कोच के चयन के लिए सोमवार को बीसीसीआई की तीन सदस्यीय क्रिकेट अडवायजरी कमिटी (सीएसी) आवेदकों के इंटरव्यू लेगी. सीएसी में सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं. टीम इंडिया के कोच पद के लिए कुल 10 लोगों ने आवेदन किया है. इन 10 लोगों में शास्त्री के अलावा वीरेंद्र सहवाग, टॉम मूडी, रिचर्ड पायबस, डोड्डा गणेश, लालचंद राजपूत, फिल सिमंस, लांस क्लूजनर, राकेश शर्मा (ओमान टीम के कोच) और उपेंद्रनाथ ब्रह्मचारी (बिना क्रिकेट की बैकग्राउंड वाला एक इंजीनियर) शामिल हैं. Also Read - Ab de Villiers के इस 4-Point Message से वापस फॉर्म में लौटे Virat Kohli, भारतीय कप्‍तान ने मांगी थी मदद

रिपोर्ट्स के मुताबित सीएसी सोमवार को नए कोच पद के लिए इनमें से सिर्फ छह लोगों शास्त्री, सहवाग, मूडी, सिमंस, पायबस और राजपूत के इंटरव्यू लेगी. पूर्व दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर लांस क्लूजनर ने भी इस पद के लिए आवेदन किया है लेकिन फिलहाल उनके चुने जाने की संभावना कम ही लगती है. हालांकि उन्हें स्टैंडबाय में रखा जा सकता है. Also Read - IPL 2021 RR vs DC Highlights in Hindi: क्रिस मॉरिस की धमाकेदार पारी के दम पर राजस्थान ने दिल्ली को हराया

अनिल कुंबले द्वारा कप्तान कोहली से मतभेद के बाद वेस्टइंडीज दौरे से पहले अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद बीसीसीआई ने कोच के आवेदन की तारीख को आगे बढ़ाकर इसे 9 जुलाई कर दिया था. कोच के आवेदन की तारीख बढ़ाए जाने के बाद अचानक ही टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्टर रहे रवि शास्त्री ने इस पद के लिए आवेदन किया और इसके साथ ही वह इस पद के सबसे बड़े दावेदार बनकर उभरे हैं. Also Read - BCCI के सालाना कॉन्ट्रेक्ट की ए+ कैटेगरी में कोहली, रोहित और बुमराह को मिली जगह; पांडे-जाधव बाहर

रवि शास्त्री को माना जा रहा है सबसे बड़ा दावेदार:
शास्त्री को कप्तान कोहली का पसंदीदा माना जाता है और साथ ही उन्हें लगभग दो साल तक टीम इंडिया के डायरेक्टर पद पर काम करने का अनुभव है. उनका कार्यकाल में भारतीय टीम 2015 के वर्ल्ड के सेमीफाइनल में पहुंची थी. माना जा रहा है कि कोच पद के आवेदन की तारीख शास्त्री की वजह से ही बढ़ाई गई ताकि वह इस पद के लिए आवेदन कर सकें. शास्त्री को सीएसी में शामिल सचिन तेंदुलकर की भी पसंद माना जाता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक शास्त्री ने इस पद के लिए तभी आवेदन किया जब उन्हें इस बात की गारंटी मिल गई की उन्हें ही इस पद के लिए चुना जाएगा.  शास्त्री का टीम इंडिया के कोच पद पर चयन लगभग तय माना जा रहा है लेकिन सीएसी में शामिल पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के साथ शास्त्री के तल्ख रिश्ते उनके राह की सबसे बड़ी रुकावट हैं.

गांगुली के साथ तल्ख रिश्ते शास्त्री के राह की रुकावट!

शास्त्री ने पिछले साल भी टीम इंडिया के कोच पद के लिए आवेदन किया था लेकिन आखिरी समय में इसके लिए आवेदन करने वाले कुंबले को कोच चुना गया. तब शास्त्री ने सार्वजनिक तौर पर गांगुली की आलोचना करते हुए कहा था कि गांगुली नहीं चाहते थे कि वह कोच बने, इसीलिए उनके स्काइप इंटरव्यू के दौरान वह उठकर चले गए थे. इस पर गांगुली ने पलटवार करते हुए कहा था कि अगर शास्त्री इस पद के लिए इतने ही गंभीर थे तो उन्हें स्काइप पर इंटरव्यू देने के बजाय व्यक्तिगत तौर पर उपस्थित होना चाहिए था. शास्त्री उस समय बैंकॉक में थे और उन्होंने  वहीं से इंटरव्यू दिया था.

गांगुली और शास्त्री के तल्ख रिश्ते नए कोच के समीकरण को रोचक बनाते हैं. ऐसे में पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग के नाम पर भी मुहर लग सकती है. हालांकि सहवाग एक बेहतरीन बल्लेबाज रहे हैं लेकिन उन्हें कोचिंग कोई खास अनुभव नहीं है. उन्होंने दो सीजन आईपीएल टीम किंग्स इलेवन पंजाब को कोचिंग दी है लेकिन उनकी कोचिंग के दौरान पंजाब की टीम कोई भी बेहतर रिजल्ट देने में नाकामयाब रही है.

वहीं इस पद के लिए टॉम मूडी को भी चुना जा सकता है. मूडी ने पिछले साल भी इस पद के लिए आवेदन किया था लेकिन रेस में वह कुंबले से पिछड़ गए थे. मूडी को कोचिंग का काफी अनुभव है और उनकी कोचिंग में श्रीलंका की टीम 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंची थी. साथ ही उनके कोच रहते हुए सनराइजर्स हैदराबाद ने आईपीएल का खिताब भी जीता. मूडी का शांत स्वभाव और चुपचाप काम करने की शैली उन्हें एक मजबूत दावेदार बनाती है. वहीं इस पद की रेस में शामिल लांस क्लूजनर को दक्षिण अफ्रीका की कुछ घरेलू टीमों की कोचिंग का अनुभव है जबकि फिल सिमंस इससे पहले अफगानिस्तान और आयरलैंड जैसी टीमों के कोच रह चुके हैं.