नई दिल्ली : भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने शनिवार को मुंबई में कहा कि वनडे क्रिकेट को लेकर उनके बारे में एक राय बन गयी है लेकिन वह इस फॉर्मेट के लिए उपयुक्त हैं. अश्विन से पहले तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने भी कहा था कि भारतीय क्रिकेट में ऐसी राय बन गयी है कि वह टेस्ट गेंदबाज है जिससे एकदिवसीय में उन्हें मौका नहीं मिल रहा है. अश्विन को 2017 के वेस्टइंडीज दौरे के बाद वनडे टीम में जगह नहीं मिली है क्योंकि टीम प्रबंध को लगता है कि कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल जैसे कलाई के स्पिनर बेहतर विकल्प है.

अश्विन से जब वनडे फॉर्मेट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे नहीं पता, यह एक राय बन गयी है. मैं इसके लिये उपयुक्त हूं. सफेद गेंद (वनडे) के फॉर्मेट में मेरा रिकॉर्ड उतना बुरा नहीं है. यह सिर्फ सोच की बात है कि आधुनिक दौर के क्रिकेट में कलाई के स्पिनर बेहतर हैं इसलिये मैं बाहर हूं.’’

IPL 2019 से पहले चेन्नई हुई तैयार, धोनी-रैना ने जमकर बहाया पसीना

अश्विन ने याद दिलाया की उन्होंने 30 जून 2017 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गये अपने आखिरी वनडे में 28 रन देकर तीन विकेट लिये थे. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अपने अंतिम एकदिवसीय में 28 रन देकर तीन विकेट लिये थे. मैं जब भी अपने करियर का देखूंगा तो यह कहूंगा कि मैं अपने प्रदर्शन के कारण नहीं बल्कि टीम की जरूरत के कारण बाहर किया गया.’’

IPL 2019 के लिए दक्षिण अफ्रीका ने खिलाड़ियों को अब तक नहीं किया रिलीज

बता दें कि अश्विन क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट्स में शानदार गेंदबाजी कर चुके हैं. उन्होंने 109 वनडे पारियों में 150 विकेट झटके हैं. इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 25 रन देकर 4 विकेट लेना रहा था. इसके अलावा वो 122 टेस्ट पारियों में 342 विकेट झटक चुके हैं. अश्विन ने टेस्ट में 7 बार 10 विकेट लेने का कारनामा भी किया है. इसके अलावा वो टीम इंडिया के लिए टी-20 इंटरनेशनल खेलते हुए 52 विकेट ले चुके हैं.