नई दिल्ली: सीनियर ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने कहा है कि भारत की सीमित ओवरों की टीम में वापसी को लेकर उनकी रातों की नींद नहीं उड़ी है और फिलहाल उनका ध्यान आगामी इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब की कप्तानी की ‘बड़ी जिम्मेदारी’ पर है. Also Read - IND vs ENG Day 1 Match Report and Highlights: पहले दिन Axar-Ashwin चमके, 205 पर इंग्लैंड ऑल आउट

Also Read - ICC 'Player of the Month': भारत के रविचंद्रन अश्विन समेत जो रूट और कायल मेयर्स को मिला नॉमिनेशन

युवराज सिंह और आरोन फिंच जैसे खिलाड़ियों पर तवज्जो देकर कल अश्विन को किंग्स इलेवन पंजाब का कप्तान नियुक्त किया गया. उन्होंने ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा के साथ भारत की सीमित ओवरों की टीम में स्थान गंवा दिया है. अश्विन ने भारत की ओर से पिछला सीमित ओवरों का मैच जुलाई 2017 में खेला था. Also Read - India vs England: जो रूट चाहते हैं भारतीय स्पिनरों का बहादुरी से सामना करें इंग्लिश बल्लेबाज

खुली सड़क पर तौलिए में निकला इंग्लैंड का पूर्व कप्तान तो फैंस खा गए गच्चा !

अश्विन ने कहा, ‘‘मैं इस साल के आईपीएल को भारतीय टीम में वापसी के तौर पर नहीं देख रहा. मैं आईपीएल में उसी मानसिकता के साथ उतरूंगा जैसे हर साल उतरता हूं. इस सत्र में मेरे ऊपर बड़ी जिम्मेदारी (किंग्स इलेवन पंजाब की कप्तानी की) है और मैं चुनौती के लिए तैयार हूं. मैं किसी और चीज पर ध्यान नहीं दे रहा. अगर होना होगा तो ऐसा (भारतीय टीम में वापसी) होगा.’’

अंगुली के स्पिनरों अश्विन और जडेजा का चयन अगले साल होने वाले विश्व कप में मुश्किल नजर आता है क्योंकि फिलहाल कलाई के स्पिनर युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव भारत के लिए अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. हालांकि आईपीएल में अश्विन का प्रदर्शन उनके लिए सिर्फ एक कप्तान ही नहीं बल्कि सीनियर गेंदबाज के रूप में भी अहम होगा. वह अप्रैल-मई में होने वाले इस टूर्नामेंट में लेग स्पिन आजमाने को भी तैयार हैं.

मयंक अग्रवाल ने सचिन तेंदुलकर के रिकॉर्ड में लगाया सेंध, 15 साल पुराना कीर्तिमान किया अपने नाम

टीम संयोजन पर फैसला अभी जल्दबाजी होगा लेकिन अश्विन के सामने जो चुनौतियां हैं उनमें से एक टीम में शामिल सीनियर खिलाड़ियों के साथ सामंजस्य बैठाना है. युवराज सिंह, फिंच, डेविड मिलर और क्रिस गेल टीम में शामिल कुछ हाई प्रोफाइल खिलाड़ी हैं.

एक समय आईपीएल नीलामी की शान रहे युवराज और गेल की मांग में काफी कमी आई है और पंजाब की टीम ने इन दोनों को पिछले महीने हुई नीलामी में उनके आधार मूल्य पर खरीदा. युवराज सिंह का अंतिम एकादश में खेलना लगभग तय है लेकिन यह देखना होगा कि टीम प्रबंधन गेल का सर्वश्रेष्ठ इस्तेमाल कैसे करता है क्योंकि उनके पास फिंच और मयंक अग्रवाल की फार्म में चल रही सलामी जोड़ी है. पंजाब की टीम के लिए लोकेश राहुल भी पारी का आगाज कर सकते हैं.