नई दिल्ली : भारत के हरफनमौला खिलाड़ी रवींद्र जडेजा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 26 दिसंबर से शुरू होने वाले बॉक्सिंग डे टेस्ट के लिए टीम चयन के लिए उपलब्ध रहेंगे. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने रविवार को जारी एक बयान में कहा कि जडेजा कंधे की चोट से उबर चुके हैं और अब वह मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के साथ खेले जाने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए टीम चयन के लिए उपलब्ध रहेंगे. बीसीसीआई ने कहा कि जडेजा को इस वर्ष वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज के दौरान कंधे में चोट लग गई थी और फिर इसके बाद पिछले महीने दो नंबवर को उन्हें इंजेक्शन लेने की सलाह दी गई थी.

इस इंजेक्शन के बाद जडेजा अच्छा महसूस करने लगे थे. इसके बाद उन्होंने 12 से 15 नवंबर तक खेले गए रणजी ट्रॉफी मैच में सौराष्ट्र के लिए मैच भी खेला था. रणजी ट्रॉफी में खेलने के बाद बीसीसीआई ने उन्हें फिट करार दिया था और फिर उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली सीरीज के लिए चुना गया था.

टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घोषित की वनडे टीम, धोनी-जडेजा की वापसी

बोर्ड ने कहा कि सिडनी में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए अभ्यास मैच के दौरान 30 नवंबर को जडेजा ने फिर से कंधे में चोट की शिकायत की थी. इसके बाद उन्हें फिर से इंजेक्शन दिया गया था और यह इंजेक्शन उनकी चोट में सुधार के लिए रिहेबिलिटेशन का एक हिस्सा था. बयान के अनुसार, जडेजा के कंधे में सुधार जारी है और अब वह मेलबर्न में होने वाले तीसरे टेस्ट मैच के लिए उपलब्ध हैं.

गौरतलब है कि जडेजा की चोट की स्थिति को लेकर बीसीसीआई का यह बयान भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री के उस बयान के बाद आया है, जिसमें शास्त्री ने रविवार को कहा कि जडेजा के कंधे में उस समय से जकड़न थी, जब वह घरेलू क्रिकेट खेल रहे थे और यहां पहुंचने के चार दिनों बाद उन्हें इंजेक्शन दिए गए थे.

टीम इंडिया की न्यूजीलैंड दौरे के लिए घोषणा, धोनी-जाधव समेत जानें किसे मिली जगह

कोच के इस बयान के बाद यह सवाल उठने लगा कि पूरी तरह से फिट नहीं होने के बावजूद जडेजा को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर क्यों लाया गया. लेकिन अब बीसीसीआई के इस बयान को शास्त्री के बयान का बचाव करने के रूप में देखा जा रहा है. जडेजा को पर्थ में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में न खेलाने को लेकर कोच और टीम प्रबंधन की काफी आलोचना की गई थी. भारत को दूसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के हाथों 146 रनों से हार का सामना करना पड़ा था.