सेंचुरियन। दक्षिण अफ्रीका के कोच रे जेनिंग्स का मानना है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली ड्रेसिंग रूम में दबदबा बनाने वाले हो सकते हैं और यह बेहतरीन होगा अगर उन्हें एक अच्छा मार्गदर्शन मिले जो नेतृत्वकर्ता के रूप में उनकी क्षमता को अधिकतम कर सके. जेनिंग्स ने कोहली की प्रगति को अंडर 19 दिनों से देखा है जब वह रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के कोच थे. Also Read - RR vs CSK: केविन पीटरसन ने क्‍यों कहा- मैं धोनी की इस नॉनसेंस को स्‍वीकार नहीं कर सकता

Also Read - 'धोनी का 7वें नंबर पर उतरना समझ से परे, बाद में 3 छक्के जड़ने का क्या फायदा, ये तो उनके निजी रन थे'

जेनिंग्स ने कहा कि मुझे लगता है कि एक कप्तान के रूप में वह अब भी अपने सर्वश्रेष्ठ स्तर पर नहीं है. भारतीय क्रिकेट प्रणाली को विराट कोहली को बेहतर करना होगा. महेंद्र सिंह धोनी के दौर से कोहली के दौर में बहुत अधिक बदलाव आया है. धोनी इतना धैर्यवान है और कोहली पूरी तरह से इसका उलट. वह ड्रेसिंग रूम में डर पैदा करने वाला हो सकता है और कभी कभी टीम के साथी हैरान होते होंगे कि कोहली असल में कौन है. Also Read - IPL 2020: एमएस धोनी की फॉर्म पर उठे सवाल तो कोच फ्लेमिंग ने दिया ये जवाब, बोले-हर साल एक ही...

जेनिंग्स का मानना है कि कोहली युवा खिलाड़ी में डर पैदा कर सकते हैं और यही कारण है कि धैर्यवान मेंटर समय की जरूरत है. उन्होंने कहा कि ड्रेसिंग रूम में डर का माहौल हो सकता है और इतने सारे युवा खिलाड़ियों के टीम में जगह बनाने के कारण आप ऐसा नहीं चाहोगे. भारतीय क्रिकेट को इसलिए ऐसा व्यक्ति ढूंढना होगा जो कोहली को सुधार करने के लिए प्रभावित कर सके और उसे और अधिक बेहतर कप्तान बनाए.

लेकिन जेनिंग्स ने कहा कि आयु बढ़ने के साथ कोहली बेहतर होगा. उन्होंने कहा कि आयु बढ़ने के साथ नैसर्गिक रूप से कोहली बेहतर और धैर्यवान होगा. वह हमेशा इतना आक्रामक नहीं रहेगा. लेकिन कई हालात में जब चीजें इतनी शांत नहीं होंगी या ड्रेसिंग रूम से डर हटाने के लिए, कोहली को कौन बेहतर होना सिखाएगा.

जेनिंग्स ने कहा कि वह इतन समझदार और जज्बे वाला है कि बदलाव को स्वीकार करे. वह सर्वश्रेष्ठ बनना चाहता है और उसमें दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी बनने का कौशल है, लेकिन इसके बावजूद उसे कुछ सहायता की जरूरत है. कोहली ने डरबन में 33वां एकदिवसीय शतक जड़ा जबकि इससे पहले वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में शीर्ष स्कोर रहे थे.

जेनिंग्स ने कहा कि इस आयु में वह पहले ही 33 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय शतक जड़ चुका है और एकदिवसीय क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ (सचिन तेंदुलकर) के करीब है. उसके अंदर कम से कम 10 और साल का खेल बचा है इसलिए कोई कारण नहीं है कि तीन से चार साल में वह और बेहतर नहीं हो.

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि किसी भी बल्लेबाज के लिए 32 सर्वश्रेष्ठ उम्र होती है और वह अभी वहां तक पहुंचा भी नहीं है इसलिए आप 33 में कुछ और शतक जोड़ सकते हो. 

बाउंड्री पर खड़े कोहली को फैंस ने पोस्‍टर दिखा के दी शादी की बधाई, विराट ने दिया ये रिएक्शन

बाउंड्री पर खड़े कोहली को फैंस ने पोस्‍टर दिखा के दी शादी की बधाई, विराट ने दिया ये रिएक्शन

अंडर 19 विश्व कप 2008 में दक्षिण अफ्रीका के कोच रहे जेनिंग्स ने कहा कि जब भारत ने (2008 में) उसकी अगुआई में अंडर 19 विश्व कप जीता तो मैं दक्षिण अफ्रीका अंडर 19 टीम का कोच था. उस समय भी मुझे लगा था कि बल्लेबाजी के मामले में वह अपने आयु समूह में शीर्ष पर होगा.

उन्होंने कहा कि मैंने जिन्हें खेलते हुए देखा उनमें वह स्पिन के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी है. क्या वह सर डान ब्रैडमैन से बेहतर है. मुझे नहीं पता लेकिन निश्चित तौर पर इस समय वह दुनिया के शीर्ष दो बल्लेबाजों में शामिल है.