बेंगलुरु: हैदराबाद के कप्‍तान केन विलियमसन की 84 रनों की पारी भी टीम को बेंगलोर के खिलाफ जीत नहीं दिला सकी. मनीष पांडे के बेहतरीन अर्धशतक के बावजूद हैदराबाद बेंगलोर के दिए लक्ष्‍य 219 रनों से 14 रन दूर रह गई. 13 मैचों में छठी जीत के साथ बेंगलोर अब भी प्‍लेऑफ की दौर में बना हुआ है. उसके साथ राजस्‍थान रॉयल्‍स, मुंबई इंडियंस और किंग्‍स इलेवन पंजाब भी प्‍लेऑफ की दो जगहों के लिए दावेदार हैं. बेंगलोर का अंतिम मुकाबला शनिवार को राजस्‍थान रॉयल्‍स के साथ है. यह दोनों टीमों के लएि शूट आउट की तरह हो सकता है. जो टीम जीतेगी, वह प्‍लेऑफ में अपनी जगह बनाएगी. Also Read - विराट कोहली के मुरीद इयान बॉथम बोले-ऑलराउंडर्स पेड़ पर नहीं उगते

219 रनों के लक्ष्‍य का पीछा करने उतरी हैदराबाद को शिखर धवन और एलेक्‍स हेल्‍स ने अच्‍छी शुरुआत दी. दोनों ने 5.1 ओवर में 47 रन जोड़े जब धवन को युजवेंद्र चहल ने अपनी ही गेंद पर कैच किया. हेल्‍स हमेशा की तरह आक्रामक थे, लेकिन उन्‍हें मोईन अली की गेंद पर डिविलियर्स ने अविश्‍वसनीय कैच लेकर पवेलियन लौटाया. इस समय तक हैदराबाद का स्‍कोर आठ ओवर में 64 रन था. Also Read - On This Day in 2018: ये हैं CSK की ऐतिहासिक जीत के 12 नायक

इसके बाद केन विलियमसन और मनीष पांडे ने मोर्चा संभाला. पांडे आईपीएल के इस सीजन में अब तक अच्‍छी पारियां नहीं खेल पाए थे, लेकिन गुरुवार को उन्‍होंने अपने कप्‍तान का बखूबी साथ दिया. दूसरे छोर पर विलियमसन ने कमाल की बल्‍लेबाजी की. उन्‍होंने अकेले दम पर टीम की रनों की गति को बनाए रखा. जमने के बाद मनीष पांडे ने अपने हाथ खोले तो हैदराबाद की जीत तय दिखने लगी, लेकिन अंतिम दो ओवर में बेंगलोर के गेंदबाजों ने पलड़ा अपनी टीम के पक्ष में कर दिया. अंतिम 12 गेंद पर हैदराबाद को 35 रन की जरूरत थी. टिम साउदी ने 19वें ओवर में 15 रन दिए, लेकिन 20वें ओवर की पहली गेंद पर विलियमसन के आउट होने के बाद मैच हैदराबाद के हाथों से निकल गया. पांडे की कोशिशों के बावजूद टीम 20 ओवर में तीन विकेट खोकर 204 रन ही बना सकी. विलियमसन ने 42 गेंदों पर 81 रन बनाए. उन्‍हांने सात चौके और पांच छक्‍के लगाए. मनीष पांडे 38 गेंद पर सात चौके ओर दो छक्‍कों की मदद से 62 रन बनाकर नाबाद रहे. Also Read - इयान बिशप ने चुनी दशक की सर्वश्रेष्ठ ODI टीम; महेंद्र सिंह धोनी बने कप्तान, बुमराह को जगह नहीं

इससे पहले चिन्‍नास्‍वामी स्‍टेडियम पर हैदराबाद के खिलाफ बेंगलोर ने 20 ओवर में छह विकेट खोकर 218 रनों का विशाल स्‍कोर खड़ा कर लिया. खराब शुरुआत से उबरते हुए बेंगलोर की टीम ए बी डिविलियर्स, मोईन अली और कोलिन ग्रैंडहोम की आतिशी पारियों की बदौलत हैदराबाद के सामने जीत के लिए 219 रन का लक्ष्‍य देने में सफल रही.

टॉस हारकर पहले बैटिंग करने उतरी बेंगलोर का पहला विकेट पहले ओवर में ही गिर गया जब पार्थिव पटेल एक रन बनाकर आउट हो गए. ओपनिंग करने आए कप्‍तान विराट कोहली भी 12 रन ही बना पाए. उन्‍हें राशिद खान ने गुगली पर क्‍लीन बोल्‍ड किया. लेकिन इसके बाद ए बी डिविलियर्स और मोईन अली ने हैदराबाद के गेंदबाजों की ऐसी खबर ली कि यह समझना मुश्किल हो गया कि वे बीच के ओवर में बल्‍लेबाजी कर रहे हैं या स्‍लॉग ओवर्स में. दोनों के बीच 9.5 ओवर में 107 रनों की साझेदारी हुई, लेकिन दोनों एक ही ओवर में आउट हो गए. राशिद खाने ने पारी के 15वें और अपने चौथे ओवर की पहली गेंद पर डिविलियर्स को शिखर धवन के हाथों कैच कराया. चौथी गेंद पर मोईन भी पैडल स्‍वीप करने के प्रयास में विकेटकीपर को कैच थमा बैठे. डिविलियर्स ने 39 गेंदों पर 69 रनों की पारी खेली और इसमें 12 चौके तथा एक छक्‍का लगाया. मोईन का अंदाज उनसे भी ज्‍यादा आक्रामक था. उन्‍होंने 34 गेंदों में दो चौकों तथा छह छक्‍कों की मदद से 65 रन की पारी खेली.

एक ही ओवर में दोनों के आउट होने के बाद भी रनों की गति पर खास असर नहीं पड़ा. पांचवें नंबर पर बैटिंग के लिए आए कोलिन ग्रैंडहोम ने आते ही बासिल थम्‍पी की गेंदों पर जोरदार प्रहार करना शुरू किया. 20वें ओवर की दूसरी गेंद पर ग्रैंडहोम आउट हुए. उन्‍होंने 17 गेंदों पर एक चौका तथा चार छक्‍कों की मदद से 40 रन बनाए. सरफराज खान आठ गेंदों में 22 रन बना कर नाबाद रहे.

हैदराबाद के लिए राशिद खान एक बार फिर सबसे सफल और किफायती गेंदबाज रहे. उन्‍होंने चार ओवर 27 रन देकर तीन विकेट लिए. सिद्धार्थ कौल को दो विकेट मिला, लेकिन उन्‍होंने चार ओवर में 44 रन खर्च किए. संदीप शर्मा को एक विकेट मिला. बासिल थम्‍पी ने चार ओवर की गेंदबाजी में 70 रन दे डाले और आईपीएल के इतिहास में सबसे खर्चीले गेंदबाज बन गए.