ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने आईसीसी के चार दिवसीय टेस्ट मैच के विचार पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि वह इस तरह के बदलाव के पक्ष में नहीं हैं. Also Read - IPL स्थगित होते ही कोरोना से जुड़े राहत कार्यों में जुटे Virat Kohli, तस्वीरें वायरल

7 छक्कों की मदद से तूफानी पारी खेल इस कंगारू बल्लेबाज ने टीम इंडिया के लिए बजाई खतरे की घंटी Also Read - ICC WTC Final: कोरोना को देखते हुए जल्दी इंग्लैंड रवाना होगी टीम इंडिया

आईसीसी 2023 से 2031 के अगले भविष्य के दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) में चार दिवसीय टेस्ट मैचों की शुरुआत करने पर विचार कर रही है ताकि व्यावसायिक तौर पर लुभावने छोटे प्रारूपों के लिए अधिक समय मिल सके. Also Read - क्रिकेट फैंस के लिए खुशखबरी, सितंबर में खेले जाएंगे IPL मैच!

पोंटिंग ने क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू से कहा, ‘मैं इसके खिलाफ हूं लेकिन जिन लोगों के दिमाग में यह विचार आया मैं उनसे जानना चाहूंगा कि इसके पीछे प्रमुख कारण क्या है.’

इस पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा कि चार दिवसीय टेस्ट से अधिक मैच ड्रॉ होंगे.

INDvSL, 1st T20: भारत ने टॉस जीतकर श्रीलंका को पहले बल्लेबाजी के लिए किया आमंत्रित

उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि पिछले दो वर्षों में हमने कई मैच चार दिन में समाप्त होते हुए देखे लेकिन मैंने इस पर गौर किया कि पिछले दशक में कितने टेस्ट मैच ड्रॉ हुए. अगर सभी मैच चार दिवसीय होते तो अधिक टेस्ट मैच ड्रॉ समाप्त होते.’

गौरतलब है कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भी इस विचार को खारिज कर दिया है. एक दिन पहले भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने भी इसे नकार दिया था.