नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने भारत के खिलाफ जारी चौथे टेस्ट मैच के चौथे दिन रविवार के खेल के दौरान राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ियों द्वारा डीआरएस न लेने पर नाराजगी जाहिर की है. पोंटिंग का कहना है कि यह स्थिति वर्तमान में उन्हें ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की मानसिकता के बारे में बहुत कुछ जाहिर करती है. उल्लेखनीय है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चौथे दिन के खेल के दौरान ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में नाथन लॉयन बल्लेबाजी के दौरान कुलदीप यादव की गेंद पर पगबाधा आउट करार दे दिए गए थे. लॉयन अंपायर इयान गोल्ड के फैसले को मानकर पवेलियन लौट गए. Also Read - IND vs AUS, 1st ODI: आकाश चोपड़ा ने ऑलराउंडर्स के विभाग में भारत को पाया कमजोर, बोले- हार्दिक के पास...

Also Read - Aus vs Ind, 1st ODI, Preview: ऑस्ट्रेलिया में भारत के 'संकटमोचन' रोहित शर्मा के बिना पहला वनडे खेलने उतरेगी टीम इंडिया

इस पर पोंटिंग ने कहा कि लॉयन को डीआरएस लेना चाहिए था. इसके साथ उन्होंने मिशेल स्टार्क द्वारा लॉयन को डीआरएस लेने के मामले पर सुझाव न देने पर भी निराशा जताई. पोंटिंग ने कहा, “लॉयन का इस प्रकार एलबीडब्ल्यू आउट होना और इस पर रिव्यू न लेना इस समय में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की मानसिकता के बारे में बहुत कुछ बताता है. खिलाड़ियों को इस पर किसी प्रकार की कोई परेशानी ही नहीं है. उनके पास दो रिव्यू बाकी थे लेकिन उन्होंने इसे इस्तेमाल नहीं किया.” Also Read - ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले टीम इंडिया में ऑलराउंडर खिलाड़ियों की कमी

रोहित शर्मा ने बेटी का रखा नाम, पहली बार शेयर की ये खास फोटो

स्टॉर्क की ओर से इस स्थिति को नजरअंदाज किए जाने पर पोंटिंग ने कहा, “लॉयन को आउट दिए जाने पर स्टॉर्क ने अपना सिर उठाकर यह खैर मनाई कि वह आउट नहीं हुए. दुर्भाग्य से जब आप मैदान पर होते हैं, तो आप साझेदारी में होते हैं. आप अपने साझेदार को बचाने की हर कोशिश करते हैं. हालांकि, यह साझेदारी मुझे इस मैच में नजर नहीं आई.”

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने भारत के खिलाफ जारी चौथे टेस्ट मैच के चौथे दिन रविवार के खेल के दौरान राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ियों द्वारा डीआरएस न लेने पर नाराजगी जाहिर की है. पोंटिंग का कहना है कि यह स्थिति वर्तमान में उन्हें ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की मानसिकता के बारे में बहुत कुछ जाहिर करती है.

उल्लेखनीय है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चौथे दिन के खेल के दौरान ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में नाथन लॉयन बल्लेबाजी के दौरान कुलदीप यादव की गेंद पर पगबाधा आउट करार दे दिए गए थे. लॉयन अंपायर इयान गोल्ड के फैसले को मानकर पवेलियन लौट गए.

सिडनी टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया 31 साल बाद घर में खेल रही फॉलऑन, भारत अब भी मजबूत स्थिति में

इस पर पोंटिंग ने कहा कि लॉयन को डीआरएस लेना चाहिए था. इसके साथ उन्होंने मिशेल स्टार्क द्वारा लॉयन को डीआरएस लेने के मामले पर सुझाव न देने पर भी निराशा जताई. पोंटिंग ने कहा, “लॉयन का इस प्रकार पगबाधा आउट होना और इस पर रिव्यू न लेना वर्तमान में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की मानसिकता के बारे में बहुत कुछ बताता है. खिलाड़ियों को इस पर किसी प्रकार की कोई परेशानी ही नहीं है. उनके पास दो रिव्यू बाकी थे लेकिन उन्होंने इसे इस्तेमाल नहीं किया.”

स्टार्क की ओर से इस स्थिति को नजरअंदाज किए जाने पर पोंटिंग ने कहा, “लॉयन को आउट दिए जाने पर स्टार्क ने अपना सिर उठाकर यह खैर मनाई कि वह आउट नहीं हुए. दुर्भाग्य से जब आप मैदान पर होते हैं, तो आप साझेदारी में होते हैं. आप अपने साझेदार को बचाने की हर कोशिश करते हैं. हालांकि, यह साझेदारी मुझे इस मैच में नजर नहीं आई.”