आज रियो ओलम्पिक के आठवें दिन भारत का एक मेडल पक्का हो सकता है। अगर आज के टेनिस मुकाबले में सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना की जोड़ी जीतती है तो भारत का एक मेडल पक्का हो जाएगा। रियो ओलम्पिक में प्रत्येक भारतीय प्रतिस्पर्धा में निराशा झेल रहे भारतीय खिलाड़ियों के बीच यह अच्छी खबर मिल रही है। देश भर के खेल प्रेमी भी आज के मैच के लिए उत्साहित हैं। अगर आज यह जोड़ी हारती है तो फिर कांस्य के लिए एक और मुकाबला खेलना पड़ेगा। आज भारतीय जोड़ी का मुकाबला अमेरिका की वीनस विलियम्स और राजीव राम की जोड़ी से होगा। यह मुकाबला आज रात 11.30 बजे से शुरू होगा। Also Read - Australian Open 2021: राफेल नडाल को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचे ग्रीस के स्टेफानोस सितसिपास

Also Read - टेनिस स्टार Sania Mirza को भी हुआ था Corona, बोलीं- अब ठीक हूं

यह भी पढेंः रियो ओलम्पिक लाइव अपडेटः आठवें दिन हो रहे हैं शूटिंग, हॉकी, एथलेटिक्स और बैडमिंटन के इवेंट Also Read - ऑस्ट्रेलियन ओपन टूर्नामेंट से बाहर हुए रोजर फेडरर; एंडी मरे, सुमित नागल को मिला वाइल्ड कार्ड

इससे पहले कल सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना की जोडी ने जीत हासिल कर सेमिफाइनल में प्रवेश कर लिया था। सानिया ने मुकाबले के बाद कहा, “हमने मरे को पिछले मैच में देखा था और हमारी योजना उन्हें जितना हो सके खेल से बाहर रखने की थी। इसके साथ ही हमारा ध्यान इस बात पर भी था कि अगर उनकी कोई कमजोरी है, तो उस पर वार किया जाए।” बोपन्ना ने कहा कि मरे को काफी परेशानी हो रही थी उनके लिए यह काफी अच्छा लक्ष्य था। उन्होंने कहा, “परिस्थितियां भी हमारे पक्ष में थीं। इस मुकाबले को जीतने का एक ही तरीका था और वह यह था कि मरे को बॉल से जितना हो सके उतना दूर रखा जाए।”

बोपन्ना का मानना है कि शुक्रवार को हुए मुकाबले में मरे अपनी बेहतरीन फार्म में नहीं थी, जिसके कारण भारतीयों को इस मुकाबले में दबदबा बनाने में काफी सफलता मिली।कर्नाटक के टेनिस खिलाड़ी बोपन्ना ने कहा, “मरे ने पहले कुछ सर्व गवां दिए और हमने इसका फायदा उठाया। इस मुकाबले में उन पर काफी दबाव था। हम उन्हें अलग रखने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, परिस्थितियां भी हमारे अनुकूल थीं।”

मुकाबले की शुरुआत में हालांकि, भारतीय जोड़ी को अपने खेल को जमाने में थोड़ी दिक्कत हुई लेकिन फार्म में वापसी के बाद उन्होंने काफी अच्छा प्रदर्शन किया। भारतीय जोड़ी ने मुकाबले के पहले सेट में 6-4 से बढ़त बनाई और दूसरे सेट में भी अच्छा प्रदर्शन कर ब्रिटिश जोड़ी को 6-4 से पीछे किया। ब्रिटिश जोड़ी ने हालांकि, काफी वापसी करने की काफी कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे। सानिया ने कहा कि वह अपने प्रदर्शन से काफी संतुष्ट हैं। उन्होंने इस बात को स्वीकार किया है कि पदक जीतने के लिए उन्हें खेल में अब भी काफी काम करने की जरूरत है।