नई दिल्ली : रियान पराग भारतीय महिला टीम की स्टार खिलाड़ी स्मृति मंधाना के बड़े प्रशंसक हैं. इस युवा बल्लेबाज का कहना है कि उन्होंने मंधाना की नकल करने की भी कोशिश की थी लेकिन सफल नहीं हो सके. मंधाना उन बल्लेबाजों में से हैं, जिनसे पराग को प्ररेणा मिलती है. Also Read - Live Streaming TRA vs SUP Final: जानें कब और कहां देखें महिला टी20 चैलेंज फाइनल का Live Telecast

पराग ने जयपुर में कहा, “मेरे पिता मेरी प्ररेणा है. वह होने भी चाहिए. इसके बाद सचिन सर और विराट कोहली हैं और महिला क्रिकेट में मैं स्मृति मंधाना को काफी फॉलो करता आया हूं. चूंकि वो चश्मा पहनती थी और बीएएस के बल्ले से खेलती थीं, मैं तब काफी छोटा हुआ करता था. वह जिस तरह से गेंद को टाइम करती थीं और प्वांइट से निकालती थीं वह शानदार हुआ करता था. मैंने वह भी कॉपी करने की कोशिश की लेकिन यह काम नहीं किया.” Also Read - Women's T20 Challenge 2020 Trailblazers vs Supernovas Dream11 Team Prediction: खिताबी हैट्रिक पर होगी सुपरनोवाज की नजर, इन खिलाड़ियों के साथ उतर सकती हैं ट्रेलब्लेजर्स और सुपरनोवाज टीमें

पराग शायद पहले पुरुष क्रिकेट खिलाड़ी होंगे, जिन्होंने यह माना है कि वह महिला क्रिकेटर के फैन हैं. पराग ने कहा कि वह नेट्स में बल्लेबाजी करना पसंद नहीं करते हैं. उन्होंने कहा, “सच कहूं तो मैं नेट्स में बल्लेबाजी करना पसंद नहीं करता हूं इसलिए क्योंकि नेट्स सभी तरफ से बंद रहता है. मुझे ऐसा लगता है कि किसी ने मुझे पकड़ रखा है और मैं बंद हूं.” Also Read - Trailblazers vs Supernovas Highlights: सुपरनोवा ने रोमांचक मुकाबले में ट्रेलब्लेजर्स को हरा फाइनल में बनाई जगह

धोनी ने दिया क्रिकेट से संन्यास लेने का संकेत, करेंगे अपना पसंदीदा काम

पराग इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेले थे. लीग में कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ खेली गई पारी के बाद से पराग चर्चा में आ गए थे. पराग से जब आईपीएल में सबसे चुनौती पूर्ण पल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ खेले गए मैच से पहले मैं काफी नर्वस था. ईडन गार्डन्स में मेरा रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है. कोलकाता के मैच से पहले मैंने नौ रन बनाए थे. इसलिए वो जो पारी मैंने खेली वो मुझे हमेशा याद रहेगी और वो मेरी इस सीजन की सबसे अच्छी पारी थी.”

उस मैच में पराग ने 31 गेंदों पर 47 रन बनाए थे और टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी.