साकेत कुमार
दिल्ली: केपटाउन वनडे में भी टीम इंडिया के हिटमैन रोहित शर्मा का बल्ला नहीं चला. धवन के साथ पारी की शुरुआत करते हुए रोहित ने 6 गेंदों का सामना तो किया लेकिन वो बिना खाता खोले ही पवेलियन लौट गए और सिर्फ 1 रन के स्कोर पर भारतीय टीम को पहला झटका लग गया. वनडे क्रिकेट में ये 12वां मौका है जब रोहित शर्मा शून्य पर आउट हुए हैं. Also Read - विराट नहीं तो रोहित शर्मा को करनी चाहिए सभी फॉर्मेट में कप्तानी: माइकल क्लार्क

रोहित के बल्ले की खामोशी सिर्फ केपटाउन वनडे में ही नहीं दिखी है. इससे पहले डरबन और सेंचुरियन वनडे में भी वो कुछ खास नहीं कर सके थे. डरबन में रोहित ने सिर्फ 20 रन बनाए जबकि सेंचुरियन में उनके बल्ले से 15 रन निकले थे. वनडे सीरीज के 3 मैचों में रोहित के बल्ले से 11.33 की औसत से सिर्फ 35 रन निकले हैं. Also Read - South Africa vs England, 1st T20I: बेयरस्टो की धमाकेदार पारी से इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 5 विकेट से हराया, सीरीज में बनाई बढ़त

केपटाउन वनडे से पहले जब रोहित के फॉर्म को लेकर शिखर धवन से सवाल किया गया तो उन्होंने उनका बचाव करते हुए कहा कि, ” रोहित शानदार बल्लेबाज हैं. वो जिस तरह से गेंद को टाइम करते हैं वैसा बहुत कम ही बल्लेबाज कर पाते हैं. उन्हें बस एक बड़ी पारी की दरकार है. उसके बाद वो अपनी लय हासिल कर लेंगे. ” Also Read - BCCI ने बताया- आखिर टीम इंडिया के साथ ऑस्ट्रेलिया क्यों नहीं गए Rohit Sharma

डरबन और सेंचुरियन की ही तरह बड़ी पारी खेलने का मौका रोहित केपटाउन में भी गंवा चुके हैं. वैसे, साउथ अफ्रीका में रोहित के बल्ले की बोलती सिर्फ मौजूदा दौरे पर ही बंद नहीं है. इससे पहले के दौरों पर भी रनों के मामले में उनके हाथ में नाकामी ही लगी है.

साउथ अफ्रीका में खेले 11 वनडे में 12.10 की मामूली औसत से रोहित के बल्ले से सिर्फ 121 रन ही निकले हैं. इसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 23 रन का है.

साफ है दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं रोहित को रास ही नहीं आती. मौजूदा वनडे सीरीज में 3 मुकाबले अभी भी खेले जाने हैं. देखना ये है कि रोहित प्रोटियाज सरजमीं पर अपने रनों के सूखे को खत्म कर पाते हैं या नहीं.