Rohit-Sharma---MS-Dhoni---Mumbai-Indians---Chennai-Super-Kings-1

मुंबई 19 मई: लीग चरण में बेहद खराब शुरुआत के बाद जबरदस्त वापसी करते हुए रोहित शर्मा की कप्तानी में मुंबई इंडियंस ने मंगलवार को वानखेड़े स्टेडियम में हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आठवें संस्करण के पहले क्वालीफायर मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को 25 रनों से हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया। मुंबई इंडियंस आईपीएल इतिहास में तीसरी बार फाइनल में पहुंचे हैं तथा सुपर किंग्स के बाद सर्वाधिक बार फाइनल में पहुंचने वाली दूसरी टीम बन गई।

रोहित ने प्लेऑफ में प्रवेश करने के बाद कहा था कि अब उनकी टीम निर्भीक होकर खेलेगी और बिल्कुल उसी अंदाज में मुंबई इंडियंस ने मंगलवार को टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनते हुए लेंडल सिमंस (65) और किरन पोलार्ड (41) की नायाब पारियों की बदौलत 187 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया और उसके बाद सुपर किंग्स की पूरी टीम को 19 ओवरों में 162 रनों पर ढेर कर दिया।

पोलार्ड को मैन ऑफ द मैच चुना गया। सुपर किंग्स की उम्मीदें हालांकि अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुई हैं तथा उन्हें अब 22 मई को रांची में राजस्थान रॉयल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच होने वाले इलिमिनेटर मैच के विजेता से भिड़ना है। वहां जीत हासिल कर वे फाइनल में प्रवेश कर सकते हैं। लक्ष्य का पीछा करने उतरी सुपर किंग्स की शुरुआत खराब रही और उनके सलामी बल्लेबाज ड्वायन स्मिथ खाता खोले बगैर चौथी गेंद पर ही पगबाधा करार दे दिए गए, हालांकि रीप्ले में स्पष्ट दिखा रहा था कि गेंद लेग साइड के बाहर स्मिथ के पैड से टकराई थी।

इसके बाद बल्लेबाजी करने आए फॉफ दू प्लेसिस (45) ने माइकल हसी (16) के साथ दूसरे विकेट के लिए 46 और सुरेश रैना (25) के साथ तीसरे विकेट के लिए 40 रनों की साझेदारी कर टीम की उम्मीद बनाए रखी। हसी इस बीच विनय कुमार द्वारा लाए गए छठे ओवर की पहली गेंद पर विकेट के पीछे लपक लिए गए। रैना, प्लेसिस की जोड़ी सधने की कोशिशों में ही लगी हुई थी कि 11वां ओवर लेकर आए मुंबई इंडियंस के अनुभवी स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने लगातार दो गेंदों पर रैना और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (0) के विकेट चटका कर सुपर किंग्स की उम्मीदों पर तुषारापात कर दिया।

प्लेसिस ने हालांकि उम्मीद नहीं छोड़ी और ड्वायन ब्रावो (20) के साथ पांचवें विकेट के लिए 24 रन जोड़े। रन गति बढ़ाने की कोशिशों में लगे प्लेसिस ने जगदीश सुचित की गेंद को लेग साइड में ऊंचा खेला हालांकि लांग ऑन पर खड़े विनय कुमार ने यह कैच आसानी से ले लिया। प्लेसिस ने 34 गेंदों का सामना कर पांच चौके और एक छक्का लगाया।

प्लेसिस के जाते ही सुपर किंग्स की मुसीबतें भी शुरू हो गईं और अगले दो ओवरों में ब्रावो और पवन नेगी (3) भी पवेलियन लौट गए। तेजी से दूसरा रन लेने की कोशिश कर रहे ब्रावो को विकेटकीपर पार्थिव पटेल ने सूझ और फूर्ति से रन आउट किया। नेगी, विनय कुमार की गेंद पर स्थानापन्न क्षेत्ररक्षक उन्मुक्त चंद के हाथों लपके गए।

इस बीच सुपर किंग्स के लिए अपेक्षित रन गति बढ़ता जा रहा था और उन्हें आखिरी चार ओवरों में जीत के लिए 59 रनों की दरकार थी। हालांकि रविचंद्रन अश्विन (23) और रवींद्र जडेजा (19) ने कुछ तेज शॉट लगाकर जीत की उम्मीद भले न जगाई हो, लेकिन मैच को रोमांचक बनाए रखा। जडेजा ने 10 गेंद में एक चौका और एक छक्का जड़ा, जबकि अश्विन ने 12 गेंदों में दो चौका और एक छक्का लगाया। हालांकि सारी कोशिशों के बावजूद सुपर किंग्स की पूरी टीम एक ओवर पहले ही 162 रनों पर पवेलियन लौट गई।

मुंबई के लिए मलिंगा ने सर्वाधिक तीन, जबकि विनय कुमार और हरभजन ने दो-दो विकेट चटकाए। मलिंगा ने सबसे किफायती गेंदबाज रहे। इससे पहले, मुंबई ने लेंडल सिमंस (65) और कीरन पोलार्ड (41) की शानदार पारियों की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में छह विकेट खोकर 187 रनों का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया और उनके दोनों सलामी बल्लेबाजों सिमंस और पार्थिव पटेल (35) ने अपने कप्तान के निडर होकर खेलने वाले बयान को चरितार्थ करते हुए टीम को शानदार शुरुआत दिलाई।

सिमंस ने पटेल के साथ पहले विकेट के लिए 10.4 ओवरों में 90 रन जोड़ डाले। अपने सभी स्पिन गेंदबाजों को आजमा चुके कप्तान धौनी ने अंतत: आखिरी के ओवरों के पसंदीदा गेंदबाज ड्वायन ब्रावो को 11वें ओवर में आक्रमण पर लगाया। ब्रावो ने रवींद्र जडेजा के हाथों पटेल को कैच करा अंतत: सुपर किंग्स को पहली सफलता दिला दी। पटेल ने 25 गेंदों में चार चौके और एक छक्का लगाया।

इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरे कप्तान रोहित (19) के साथ दूसरे विकेट के लिए 23 रन ही जोड़ सके थे कि जडेजा ने सिमंस को पवन नेगी के हाथों लपकवा दिया और सुपर किंग्स पर बढ़ रहे खतरे को टाल दिया।

सिमंस ने इस बीच 51 गेंदों की अपनी अर्धशतकीय पारी में तीन चौके और पांच छक्के लगाए। सिमंस का आईपीएल-8 में यह पांचवां अर्धशतक है तथा इसके साथ ही वह मुंबई इंडियंस के लिए किसी एक संस्करण में सचिन तेंदुलकर और ज्यां पॉल ड्यूमिनी के साथ संयुक्त रूप से सर्वाधिक अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए। 15 ओवरों में दो विकेट पर 135 रन बना चुकी मुंबई के लिए हालांकि अगले दो ओवर काफी खराब रहे। इन दो ओवरों में मुंबई ने छह रन जोड़ने में रोहित और हार्दिक पांड्या (1) के विकेट गंवा दिए। रोहित का विकेट ब्रावो ने जबकि पांड्या का विकेट आशीष नेहरा ने लिया।

क्रीज पर मौजूद पोलार्ड ने हालांकि तेज हाथ दिखाते हुए 17 गेंदों में एक चौका और पांच छक्का जड़कर टीम को चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचा दिया। इस बीच अंबाती रायडू (10) मोहित शर्मा का शिकार हुए। पोलार्ड भी आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर ब्रावो की गेंद को काफी ऊंचा खेल बैठे और सुरेश रैना ने कैच लेने में कोई गलती नहीं की। मुंबई के लिए ब्रावो ने सर्वाधिक तीन विकेट हासिल किए और इसके साथ ही आईपीएल-8 में उनके कुल विकेटों की संख्या 23 हो गई तथा आईपीएल-8 में वह सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बने हुए हैं।