नई दिल्ली : टीम इंडिया ने रोहित शर्मा की कप्तानी में एशिया कप 2018 के फाइनल में बांग्लादेश को हराकर ऐतिहासिक जीत हासिल की. भारत ने 7वीं बार इस टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला जीता. दुबई में खेला गया फाइनल मैच बेहद रोमांचक रहा. इस मुकाबले ने आखिरी गेंद तक दर्शकों की सांसें रोके रखी. रोहित ने इस जीत का श्रेय मध्यक्रम के बल्लेबाजों को दिया. रोहित का कहना है कि मध्यक्रम के बल्लेबाजों ने दबाव को संभालते हुए टीम को जीत दिलायी.

दुबई में खेले गए फाइनल मैच के बाद रोहित ने कहा, ”हमने पूरे टूर्नामेंट में अच्छी क्रिकेट खेली और यह हमारी मेहनत का नतीजा रहा. हमारी जीत का श्रेय मध्यक्रम के बल्लेबाजों को जाता है, जिन्होंने दबाव को संभालते हुए जीत दिलायी. यह बहुत ही अच्छा प्रयास रहा. यहां पर बांग्लादेश को भी श्रेय देना चाहिए. हम शुरुआती 10 ओवर में दबाव में थे. हमने सोचा कि अगर गेंद थोड़ा पुरानी हुई तो स्पिन गेंदबाज हमारे लिए अच्छा काम कर सकते हैं. मुझे अपनी टीम पर गर्व है.”

INDvsBAN: धोनी के नाम दर्ज हुआ अटूट वर्ल्ड रिकॉर्ड, ऐसा करने वाले एशिया के पहले विकेटकीपर

गौरतलब है कि एशिया कप 2018 के फाइनल मैच में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 222 रन बनाए. इस दौरान लिटन दास और मेहदी हसन ने टीम को अच्छी शुरुआत दी. टीम ने शुरुआती 20 ओवर तक एक भी विकेट नहीं गंवाया. लिटन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए शतक जड़ा, जिसकी वजह से एक समय पर भारतीय टीम दबाव में आ गयी थी. हालांकि इसके बाद केदार जाधव, कुलदीप यादव और युजवेन्द्र चहल ने टीम को विकेट दिलाये.

INDvsBAN: जडेजा ने ‘1.48 सेकेंड’ में लगाई ‘6 मीटर’ लम्बी छलांग, VIDEO में देखें धोनी की मदद से कैसे किया आउट

बांग्लादेश के दिए लक्ष्य का पीछा करने के लिए भारत की ओर से शिखर धवन और रोहित शर्मा ओपनिंग करने आए. इस दौरान धवन 15 रन बनाकर आउट हुए. जब कि रोहित ने 48 रन का योगदान दिया. अंबाती रायडू महज 2 रन ही बना पाए. इन खिलाड़ियों के आउट होते ही भारत पर दबाव बढ़ना शुरू हो गया. इसके बाद दिनेश कार्तिक 37 रन और महेन्द्र सिंह धोनी 36 रन बनाकर आउट हुए. यहां से भारत की जीत बेहद मुश्किल नजर आ रही थी. लेकिन केदार जाधव 23 रन, रविन्द्र जडेजा 23 रन और भुवनेश्वर कुमार के 21 रन के योगदान ने टीम को जीत दिलायी.