भारतीय टीम के सलामी बल्‍लेबाज रोहित शर्मा के लिए 2019 काफी यादगार रहा. 2019 की शुरुआत में साउथ अफ्रीका दौरे पर खराब प्रदर्शन के बाद उन्‍हें टेस्‍ट टीम से बाहर किया गया था. अफ्रीकी टीम के भारत दौरे से उन्‍होंने बतौर सलामी बल्‍लेबाज खेल के सबसे लंबे प्रारूप में शानदार वापसी की. रोहित शर्मा ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुझे पता था कि मैं 22 या 23 साल का नहीं हूं जो मुझे टेस्‍ट क्रिकेट में बार-बार मौके मिलते रहेंगे. Also Read - IPL 2021, PBKS vs MI Video: मुंबई इंडियंस vs पंजाब किंग्स Playing 11s, MA Chidambaram Stadium पिच रिपोर्ट, Chennai में मौसम का हाल

पढ़ें:- IND vs SL, 2nd T20I: क्‍या गुवाहाटी की तरह ही इंदौर में भी होगी बारिश ? जानें मौसम का हाल Also Read - Paytm Cricket League Team Prediction, PBKS vs MI VIVO IPL 2021: अपनी फैन्टेसी टीम में इन्हें बनाएं कैप्टन और वाइस कैप्टन, मिलेगी जीत

रोहित शर्मा ने बुरे वक्‍त को याद करते हुए कहा कि एक समय ऐसा था जब उन्‍होंने टेस्‍ट क्रिकेट में वापसी के बारे में सोचना ही छोड़ दिया था. Also Read - IPL 2021, KKR vs CSK: Dinesh Karthik का नया कीर्तिमान, सिर्फ महेंद्र सिंह धोनी-रोहित शर्मा ही कर सके ऐसा

न्‍यूज एजेसी पीटीआई से बातचीत के दौरान रोहित ने कहा, ‘‘पत्नी और बेटी ने मेरे जीवन को प्यार और खुशी से भर दिया है और मैं इसी में रहने का प्रयास करता हूं. यह नहीं सोचता कि कोई मेरे बारे में क्या टिप्पणी कर रहा है.

वनडे-टी20 क्रिकेट के उपकप्‍तान ने कहा, ‘‘मैं उस उम्र को पार कर गया हूं कि किसी के मेरे बारे में अच्छा या बुरा कहने पर प्रतिक्रिया दूं. ईमानदारी से कहूं तो अब यह अधिक मायने नहीं रखता.’’

पढ़ें:- ICC Test Championship: न्‍यूजीलैंड को क्‍लीन स्‍वीप कर अंक तालिका में भारत के बेहद करीब पहुंचे कंगारू

बतौर सलामी बल्‍लेबाज रोहित शर्मा ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ दोहरा शतक भी जड़ा. जिसके बाद से उनकी तुलना वीरेंद्र सहवाग से भी की जाने लगी है. रोहित ने कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो मैंने काफी पहले टेस्ट मैचों के बारे में सोचना छोड़ दिया था.’’

‘‘पहले मैं टेस्ट मैचों में सफलता के बारे में काफी सोचता था. मैं काफी अधिक सोचता था कि ऐसा क्यों हो रहा है, मैंने यह शॉट क्यों खेला. प्रत्येक टेस्ट पारी के बाद मैं हमारे वीडियो विश्लेषक के पास जाता, उसके साथ बैठकर वीडियो देखता और फिर और अधिक भ्रमित हो जाता. असल में मैं जो कर रहा था वह सही चीज नहीं थी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘तकनीक के बारे में काफी अधिक सोचने से मैं खेल का लुत्फ नहीं उठा पा रहा था. मेरे दिमाग में सिर्फ यही था कि मुझे टेस्ट क्रिकेट में अच्छा करना है. इसलिए 2018-19 ऑस्ट्रेलिया सीरीज से पहले मैंने स्वयं से कहा कि जो होना है वो होगा और मैं अपनी तकनीक के बारे में नहीं सोचूंगा.’’

‘‘मुझे पता था कि मैं 22 या 23 साल का नहीं हूं जिसे टेस्ट क्रिकेट में मौके मिलते रहेंगे. मुझे पता था कि मुझे हर बार क्रीज पर उतरते हुए खुद को साबित करना होगा. मैं खुशकिस्मत था कि मुझे वह मौका मिला जिसका कई लोगों को इंतजार था.’’