नई दिल्ली : महेन्द्र सिंह धोनी का बल्ला एशिया कप में नहीं चला लेकिन श्रृंखला में नियमित कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदगी में भारतीय टीम की कमान संभालने वाले रोहित शर्मा को इस बात का फख्र है कि उन्होंने पूर्व कप्तान से दबाव की स्थिति में शांत रहने की कला सीख ली है. कोच रवि शास्त्री ने भी नियमित कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदगी में धोनी तरह शांत रहने वाले रोहित की तारीफ की जिनकी कप्तानी में भारत ने एशिया कप का सातवां खिताब जीता. रोहित ने कहा, ‘‘मैंने उन्हें इतने वर्षों से कप्तानी करते देखा है, वह कभी भी परेशान नहीं होते है. फैसला लेने में थोड़ा समय लेते हैं. ये ऐसी चीजे हैं जो मुझ में भी हैं.’’

मुंबई के इस कलात्मक बल्लेबाज ने धोनी की उन खूबियों के बारे में भी बताया जो उन्होंने अपनाने की कोशिश की. उन्होंने कहा, ‘‘ मैं सोचने के बाद ही कुछ प्रतिक्रिया देता हूं. हां, 50 ओवर के खेल में आपको समय मिल जाता है, आपके पास कुछ भी करने का समय होता है. मैंने उन्हें देखकर यह सीखा है. मैं उनकी कप्तानी में लंबे समय तक खेला हूं. जब भी जरूरत होती है वह सुझाव देने के लिए तैयार रहते है.’’

AsiaCup2018: फाइनल में हार के बाद मशर्फे मुर्तजा ने बतायी रणनीति

धोनी एशिया कप में अपने बल्ले से ज्यादा प्रभावित नहीं कर सके लेकिन शानदार विकेटकीपिंग और मैदान पर उनके रणनीतिक फैसले की खूब तारीफ हुई. रोहित ने कहा, ‘‘ हम धोनी भाई से हमेशा सीखते रहते हैं क्योंकि वह काफी महान कप्तान रहे हैं. मैदान पर जब भी हम किसी परेशानी में होते हैं तो वह मदद के लिए तैयार रहते हैं. ’’

AsiaCup2018: भारत की जीत के सोशल मीडिया पर छा गया नन्हा प्रशंसक, भज्जी ने किया था ट्वीट

बता दें कि एशिया कप 2018 के फाइनल में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 222 रन बनाए. इसके जवाब में भारत ने 7 विकेट खोकर मैच जीत लिया. टीम इंडिया की ओर से रोहित शर्मा ने 48 रन और महेन्द्र सिंह धोनी ने 36 रन बनाए. जब कि दिनेश कार्तिक ने 37 रन और केदार जाधव ने 23 रन का अहम योगदान दिया. इस तरह भुवनेश्वर कुमार 21 रन और रविन्द्र जडेजा 23 रन बनाकर आउट हुए.