रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच के दौरान टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 300 रन की भागीदारी निभाने वाली तीसरी भारतीय सलामी जोड़ी बन गई। रोहित और अग्रवाल ने विशाखापत्तनम में खेले जा रहे पहले टेस्ट के दूसरे दिन 317 रन की रिकॉर्ड साझेदारी बनाई।

वाइजैग टेस्ट में रोहित ने टेस्ट में सलामी बल्लेबाज के तौर पर डेब्यू टेस्ट में 176 रन की पारी खेली जबकि अग्रवाल ने अपना पहला टेस्ट शतक जड़ा। रोहित हालांकि दिन के पहले सेशन में स्पिन गेंदबाज केशव महाराज (Keshav Maharaj) की गेंद पर क्विंटन डी कॉक (Quinton De Kock) के हाथों कैच आउट हुए लेकिन मयंक क्रीज पर टिके रहे।

रोहित और अग्रवाल के अलावा टेस्ट क्रिकेट में पहले विकेट के लिए 300 रन से ज्यादा की भागीदारी निभाने वाली बाकी दो भारतीय जोड़ियों में वीनू मांकड़ और पंकज रॉय (1956 में न्यूजीलैंड के खिलाफ 413 रन) पहले और वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) और राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) (2006 में पाकिस्तान के खिलाफ 410 रन) दूसरे नंबर पर हैं।

सहवाग-गंभीर से आगे निकले रोहित शर्मा-मयंक अग्रवाल, हासिल किया बड़ा मुकाम

दिसंबर 2018 में मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू करने वाले 28 साल के अग्रवाल को टेस्ट शतक जमाने में आठ पारियां लगी। वो टेस्ट क्रिकेट में शतक जड़ने वाले 86वें भारतीय बल्लेबाज बन गए।