बांग्लादेश (Bangladesh) के खिलाफ पहले टी20 में असफल रहे कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने राजकोट में खेले गए दूसरे मैच में मैचविनिंग अर्धशतक जड़ा। जिसकी बदौलत भारत ने 8 विकेट से जीत हासिल कर सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली। अपनी पारी के बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा कि जब भी उनके हाथ में बल्ला होता है वो अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करते हैं।

कप्तान ने कहा, “इतने सालों में जब भी मेरे हाथ में बैट था मैंने हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश की। मुझे पता था कि स्थिति परफेक्ट थी और पिच पर कोई टर्न नहीं था। मैं केवल टिके रहकर गेंद को हिट करना चाहता था।”

अपनी पारी के बारे में रोहित ने आगे कहा, “हमेशा से जानता था कि ये ट्रैक बल्लेबाजी के लिए अच्छा होगा और फिर ओस के आने से गेंदबाजों के लिए गेंद पर पकड़ बनाना मुश्किल होता और हमने उसका पूरा फायदा उठाया।”

दिल्‍ली कैपिटल्‍स ने 1 करोड़ और ऑलराउंडर खिलाड़ी के बदले रविचंद्रन अश्विन को खरीदा

कप्तान ने जीत का श्रेय स्पिन गेंदबाजों को दिया, खासकर कि भारतीय क्रिकेट में अपनी शुरुआत कर रहे क्रुणाल पांड्या और वाशिंगटन सुंदर। उन्होंने कहा, “दोनों स्पिन गेंदबाज स्मार्ट हैं और वो अपनी गेंदबाजी को जानते हैं। वो हमेशा कोच और कप्तान ने अपने खेल में सुधार करने को लेकर बातचीत करते हैं। उन्होंने काफी घरेलू क्रिकेट खेला है।”

उन्होंने कहा, “सुंदर नई गेंद के साथ हमारा गेंदबाज रहा है और आज हम उसे बदलना चाहते थे क्योंकि से बड़ा मैदान था। वो मैदान पर काफी भावुक शख्स है और पिछले मैच में हमने कुछ फैसले लिए थे जो गलत रहे थे लेकिन हमारा ध्यान काम पूरा करने पर था और ऐसे में भावनाएं बाहर आ ही जाती हैं।”