सिडनी: भारतीय वनडे टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी नंबर-4 पर बल्लेबाजी के लिए सबसे उपयुक्त हैं. धोनी ने शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के साथ पहले वनडे मैच में 96 गेंदों पर 51 रन बनाए. धोनी उस समय मैदान पर बल्लेबाजी करने उतरे जब भारतीय टीम चार रन के स्कोर पर अपने तीन विकेट गंवा चुकी थी. धोनी ने इसके बाद रोहित के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 137 रन जोड़े. हालांकि भारत को इस मैच में 34 रन से हार का सामना करना पड़ा. Also Read - कोरोनावायरस की वजह से चेन्नई सुपरकिंग्स का प्रैक्टिस सेशन स्थगित

पिछली 13 पारियों में धोनी का मात्र 25 का औसत रहा है. वहीं, दूसरी तरफ अंबाती रायडू ने नंबर-4 पर 45.72 की औसत से रन बनाए हैं लेकिन रोहित नंबर-4 पर धोनी को बल्लेबाजी करते देखना चाहते हैं. रोहित ने मैच के बाद कहा, “व्यक्तिगत तौर पर, मुझे हमेशा ऐसा लगता है कि धोनी को नंबर-4 पर बल्लेबाजी करनी चाहिए जो टीम के लिए सही होगा. रायुडू ने नंबर-4 पर शानदार परफॉर्मेंस दिया है, इसलिए यह पूरी तरह कप्तान और कोच पर निर्भर है कि इस बारे में वे क्या सोचते हैं.” Also Read - CWC 2019 में अंबाती रायडू को जगह नहीं देने पर खुलकर बोले एमएसके प्रसाद, 'मुझे उसके लिए दुख होता है'

Aus Vs Ind: पहले वनडे का टर्निंग प्‍वॉइंट- अंपायर की गलती से धोनी का आउट होना और बदल गया मैच का रुख Also Read - IND vs NZ: साल 2016 से अबतक 89 वनडे खेलने के बाद क्‍या भारत की नंबर-4 की समस्‍या हो गई है खत्‍म ?

हालांकि कप्तान विराट कोहली ने सीरीज शुरू होने से पहले कहा था, “हमारा मानना है कि रायुडू नंबर 4 पर बल्‍लेबाजी के लिए सही हैं क्योंकि उनके पास अनुभव है और उन्होंने घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में कई बार अपनी टीम को जीत दिलाई है.” धोनी ने दिसंबर 2017 के बाद से पहली बार वनडे में कोई अर्धशतक जमाया है. उन्होंने पहले मैच में कुल 96 गेंदों का सामना किया जिसमें 63 गेंदों पर वे कोई रन नहीं बना सके.

न धोनी की धीमी बैटिंग, न ऑस्‍ट्रेलिया की चुस्‍त फील्डिंग बल्कि भुवी की खराब गेंदबाजी के चलते सिडनी वनडे हारा भारत

रोहित ने कहा, “जब वह (धोनी) बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरे थे तो उस समय तीन विकेट खो चुके थे. उनके गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे, इसलिए हमें उन गेंदों का सम्मान करना था. हमने थोड़ा समय लिया, यहां तक कि मैंने भी. उस समय अगर हम एक और विकेट खो देते तो मैच वहीं पर समाप्त हो जाता. हमारी कोशिश थी कि खेल को आगे लेकर जाएं, इसलिए हमने गेंदें खाली निकालीं.” उन्होंने कहा, “हमारे लिए यह अच्छा संकेत है कि धोनी ने यह दिखाया है टीम को जब भी उनकी जरूरत पड़ेगी तो वह बैटिंग ऑर्डर में ऊपर भी बल्लेबाजी कर सकते हैं.”