लद्दाख में 20 जवानों के शहीद होने के बाद बने माहौल के कारण देश में चीन के खिलाफ गुस्‍सा चरम पर है लेकिन इसके बावजूद हाल ही में बीसीसीआई के एक अधिकारी ने चीनी कंपनी वीवो को आईपीएल की स्‍पॉंसरशिप से हटाने से साफ इनकार कर दिया. राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) की दो सहायक ईकाई-स्वदेशी जागरण मंच (एसजेएम), केरल और नीति एवं विकास अध्यन केंद्र (सीपीडीएस) ने शनिवार को बीसीसीआई के संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज के बयान पर निराशा जाहिर की.Also Read - टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री से नाराज है BCCI

बताया जा रहा है कि वीवो का साथ इस तरह बीच में ही छोड़ने पर बीसीसीआई को करीब 450 करोड़ रुपये का नुकसान होगा. जॉर्ज केरल क्रिकेट संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं और उन्होंने हाल ही में मीडिया में यह बयान दिया था कि अगर बीसीसीआई चीन की कंपनी से अपना करार खत्म करती है तो बोर्ड को काफी नुकसान होगा. Also Read - IPL 2021: KKR के मेंटोर बोले- हमें जीतना शुरू करना होगा क्योंकि हारने के लिए कुछ नहीं बचा है

एसजेएम केरल के संयोजक रंजीत कार्तिकेयन और सीपीडीएस के निर्देशक राजीव ने कहा कि हमारे 20 जवानों के शहीद होने के बाद एक ओर जहां देश चीन से लड़ रहा है ऐसे में जॉर्ज का बयान काफी गैरजिम्मेदाराना है. Also Read - Anil Kumble नहीं बनेंगे हेड कोच, VVS Laxman को मिल सकता है ऑफर!

दोनों ने कहा, “क्या जॉर्ज के पास कोई अधिकार है कि वह बीसीसीआई की तरफ से मीडिया में बोल सकते हैं. बीसीसीआई को इस पर सफाई देनी चाहिए और हम इस मुद्दे को भारतीय सरकार में उच्च स्तर पर ले जाएंगे.”

बीसीसीआई की तरफसे इस मामले में ट्वीट जारी कर कहा, “सीमा पर हुए विवाद के चलते जिसमे हमारे जवान शहीद हो गए, आईपीएल गर्वनिंग काउंसिल ने अगले सप्ताह आईपीएल के प्रायोजकों संबंधी बैठक रखी है.”