नई दिल्ली. क्रिकेट की पिच पर विराट कोहली रन और रिकॉर्ड का दूसरा नाम बन चुके हैं. रन और रिकॉर्ड के साथ उनका चोली दामन का साथ है. विराट अब जो भी मुकाबला खेलते हैं उसमें नए रिकॉर्ड गढ़ते हैं. अपनी इस काबिलियत के दम पर टीम इंडिया को जीत दिलाने की उन्हें आदत सी पड़ चुकी है. उनकी इस आदत को कोच रवि शास्त्री ने साउथ अफ्रीका में मिली वनडे सीरीज जीत में बड़ा फैक्टर करार दिया है तो विराधी कप्तान एडन मारक्रम तो ये मान बैठे हैं कि मॉर्ड्न क्रिकेट में वाकई उनसे बड़ा बल्लेबाज कोई दूसरा नहीं है. Also Read - India vs Australia 3rd ODI Match Preview: क्लीन स्वीप से बचना चाहेगी टीम इंडिया, कैनबरा में होगा मैच

Also Read - India vs Austalia, 3rd ODI, Predicted XI: दोनों टीमों का कैसा रहेगा प्‍लेइंग-XI, जानें मौसम का हाल और Pitch Report

साउथ अफ्रीका में भी रन और रिकॉर्ड के साथ विराट कोहली की यारी खूब दिखी. किसी मामले में उन्होंने दूसरों को पीछे छोड़ा , किसी मामले में बराबरी की, तो कई मामलों में आगे भी निकल गए. Also Read - IND vs AUS 2020-21 3rd ODI Dream11 Team Prediction: तीसरे वनडे में इन 11 खिलाड़ियों के साथ उतर सकती हैं भारत-ऑस्ट्रेलिया की टीमें

बाइलेट्रल सीरीज के बादशाह विराट

साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में विराट ने 6 मैचों में 186 की औसत से 558 रन बनाए. इस मामले में उन्होंने बतौर बल्लेबाज किसी बाइलेट्रल वनडे सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने के रोहित शर्मा के रिकॉर्ड को तोड़ा तो वहीं बतौर कप्तान जॉर्ज बेली के सबसे ज्यादा रन के रिकॉर्ड तो भी ध्वस्त किया. रोहित ने साल 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 6 वनडे की सीरीज में 491 रन बनाए थे. 2013 में ही जॉर्ज बेली ने भी बतौर कप्तान भारत के खिलाफ 6 मैचों की वनडे सीरीज में 478 रन बनाए थे. इसके अलावा विराट कोहली साउथ अफ्रीका में बाइलेट्रल वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं. कोहली ने इस मामले में इंग्लैंड के केविन पीटरसन (454 रन) का रिकॉर्ड तोड़ा है.

शतक के साथ जमाई धाक

साउथ अफीका के खिलाफ बाइलेट्रल वनडे सीरीज में विराट कोहली ने 3 शतक जड़े. साउथ अफ्रीका में ये कमाल करने वाले केविन पीटरसन के बाद वो दूसरे बल्लेबाज हैं. केपी ने साल 2005 में साउथ अफ्रीका में खेली वनडे सीरीज में 3 शतक जड़े थे. विराट ने बतौर कप्तान सर्वाधिक 3 शतक जड़ने के एबी डिविलियर्स के रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली है. एबी ने साल 2015 में भारत में खेली बाइलेट्रल वनडे सीरीज में 3 शतक जड़े थे.

बतौर कप्तान छाए कोहली

सेंचुरियन में खेले आखिरी वनडे में विराट के बल्ले से निकला शतक उनके करियर का 35वां वनडे शतक होने के अलावा बतौर कप्तान उनके बल्ले से निकलने वाला 13वां वनडे शतक भी था. इस मामले में कोहली ने साउथ अफ्रीका के एबी डिविलियर्स की बराबरी कर ली है. यानी, अब वो सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग (22 शतक) से पीछे हैं.

विदेश में बस सचिन से पीछे

विराट कोहली के 35 शतकों में से 21 शतक विदेशी सरजमीं पर निकले हैं. इस मामले में उन्होंने श्रीलंका के जयसूर्या और कुमार संगकारा की बराबरी कर ली है और अब सिर्फ सचिन तेंदुलकर (29 शतक) ही उनसे आगे हैं.

अजहर और रैना की 'फुर्ती' पर भारी विराट कोहली की 'तंदुरुस्ती', सबसे तेज किया ये कमाल

अजहर और रैना की 'फुर्ती' पर भारी विराट कोहली की 'तंदुरुस्ती', सबसे तेज किया ये कमाल

डिविलियर्स से भी तेज विराट

सेंचुरियन में शतक जमाने वाले विराट कोहली वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 9500 रनों का आंकड़ा पार करने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं. उन्होंने ये आंकड़ा सिर्फ 200 वनडे पारियों में हासिल किया. इससे पहले ये रिकॉर्ड साउथ अफ्रीका के एबी डिविलियर्स (215 पारी) के नाम था.

धोनी से बस एक खिताब दूर

विराट को साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में रन और रिकॉर्ड की झड़ी लगाने के लिए मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया. ये बतौर कप्तान विराट कोहली का तीसरा मैन ऑफ द सीरीज खिताब है. इस मामले में उन्होंने मोहम्मद अजहरुद्दीन के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है. भारतीय कप्तानों में सबसे ज्यादा 4 बार मैन ऑफ द सीरीज का खिताब जीतने का रिकॉर्ड महेन्द्र सिंह धोनी के नाम है.

हार नहीं मानी, लिखी जीत की कहानी

कहते हैं विराट अपने विरोधी पर वार करने का कोई मौका नहीं चूकते. सेंचुरियन में भी उन्होंने वही किया. 5-1 से वनडे सीरीज पर कब्जा करने के बाद एक सवाल के जवाब में कोहली ने कहा, ” एक महीने पहले उनकी टीम को खराब कहा जा रहा था, लेकिन उन्होंने तब भी हार नहीं मानी और सही वक्त का इंतजार किया.”

खास बात ये है कि वनडे क्रिकेट की 105 पारियों तक विराट कोहली के नाम एक भी शतक दर्ज नहीं थे. लेकिन अगले 95 पारियों में उन्होंने 35 शतक जड़ दिए जो ये बताता है कि वो किस मिट्टी के बने हुए हैं और उनका दिल और दिमाग रन और रिकॉर्ड के लिए कितना जिद्दी है.