Top Recommended Stories

बैन के बाद मैदान में लौट रहा यह भारतीय पेसर, दिसंबर में खेलेगा टी20 मैच

IPL में स्पॉट फिक्सिंग में फंसने के बाद 7 साल का बैन झेलने वाले एस. श्रीसंत घरेलू क्रिकेट में वापसी को तैयार हैं. दिसंबर में वह यहां खेलते दिखेंगे.

Updated: November 22, 2020 12:35 PM IST

By Arun Kumar

बैन के बाद मैदान में लौट रहा यह भारतीय पेसर, दिसंबर में खेलेगा टी20 मैच
फोटो: श्रीसंत के Instagram से

भारतीय तेज गेंदबाज एस. श्रीसंत (S. sreesanth) क्रिकेट में अपनी वापसी के लिए तैयार हैं. क्रिकेट में 7 साल का बैन झेलने के बाद यह क्रिकेटर केरल की प्रोफेशनल टी20 किकेट से एक बार फिर प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में खेलते दिखाई देंगे. यह खिलाड़ी साल 2013 में आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग में फंसे थे.

मैच फिक्सिंग के आरोप सही साबित होने के बाद बीसीसीआई ने उन पप आजीवन प्रतिबंध लगाया था. लेकिन पिछले साल BCCI के लोकपाल ने उन पर लगे प्रतिबंध को घटाकर 7 साल का कर दिया था, जो समयसीमा हाल ही में पूरी हो चुकी है. इसी साल सितंबर से वह क्रिकेट में वापसी के हकदार हो गए थे. अब श्रीसंत अपने राज्य और देश के लिए दोबारा क्रिकेट खेल सकते हैं (यदि उन्हें इसके लिए चुना जाता है तो).

You may like to read

केरल क्रिकेट एसोसिएशन (KCA) के अध्यक्ष के. वर्गी ने इसकी पुष्टि कर दी है कि 37 वर्षीय यह खिलाड़ी राज्य के घरेलू टी20 कम में हिस्सा लेते दिखाई देंगे.

उन्होंने बताया कि यह तेज गेंदबाज इस घरेलू टी20 कप में बड़ा आकर्षण होंगे. उन्होंने कहा कि हम दिसंबर के पहले सप्ताह में इस टूर्नामेंट को शुरू करने की योजना बना रहे हैं. टूर्नामेंट से जुड़े सभी खिलाड़ियों को सपॉर्टिंग स्टाफ को बायो-बबल नियमों का पालन करते हुए होटल में रहना होगा.

वर्गी ने बताया कि इस टूर्नामेंट के लिए उन्हें अभी राज्य सरकार की मंजूरी का इंतजार है. इस टूर्नामेंट को ड्रीम11 फैंटेसी प्लेटफॉर्म स्पॉन्सर कर रहा है, जो इस बार आईपीएल 2020 का भी स्पॉन्सर था.

Also Read:

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें Cricket की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.