इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन (Michael Vaughan) ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के इस फैसले से खुश नहीं हैं कि उसने साउथ अफ्रीका का अपना प्रस्तावित दौरा स्थगित कर दिया है. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के इस निर्णय को उन्होंने क्रिकेट के लिए ‘बड़ी चिंता’ करार दिया है. वॉन ने ऑस्ट्रेलिया से सवाल पूछा है कि अगर यह दौरा भारत का होता तो क्या तब भी ऑस्ट्रलियाई क्रिकेट बोर्ड यह निर्णय ले पाता? Also Read - WATCH: पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन ने मोटेरा की पिच को लेकर कसा तंज; पोस्ट की 'पिच रिपोर्ट'

बता दें इस मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड ने अगले महीने होने वाला साउथ अफ्रीका का अपना दौरा इसलिए रद्द कर दिया क्योंकि यहां कोविड- 19 की दूसरी लहर जारी है. ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड इसको भी लेकर चिंतित था कि यहां इस घातक कोरोना वायरस (Coronavirus) का नया वैरियंट भी तेजी से फैल रहा है. ऑस्ट्रेलिया ने इसे अपने खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ की सेहत के मद्देनजर इस दौरे को स्थगित कर दिया. Also Read - भारतीय पिचों पर बुरी तरह भड़के Michael Vaughan, बोले- भारत को जितनी छूट मिलेगी उतनी बेअसर दिखेगी ICC

उसके इस फैसले पर टि्वटर पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए माइकल वॉन ने टि्वटर पर लिखा, ‘ऑस्ट्रेलिया द्वारा साउथ अफ्रीका का दौरा छोड़ना खेल के लिए बड़ी चिंता है… सवाल यह है कि अगर उन्हें भारत दौरा करना होता तो क्या वे तब भी इसे छोड़ देते??!! इस समय में यह बहुत महत्वपूर्ण है कि इन बिग 3 (क्रिकेट की 3 बड़ी शक्तियां) को वह सब कुछ करना चाहिए, जो वह बिना वित्तीय चिंता के कर सकें.’

बता दें ऑस्ट्रेलियाई टीम ने इस प्रस्तावित दौरे के लिए अपनी टीम की घोषणा भी कर दी थी. हालांकि इस दौरे पर खेले जाने वाले 3 टेस्ट मैचों की तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ था. हालांकि ऑस्ट्रेलिया ने यह कहा है कि उसने यह दौरा स्थगित करने से पहले क्रिकेट साउथ अफ्रीका से बात की थी और उसने दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड को यह सीरीज अपने घर में खेलने का प्रस्ताव दिया था.

ऑस्ट्रेलिया द्वारा यह दौरा स्थगित करने के बाद आईसीसी ने यह जानकारी दे दी है कि अब इस साल लॉर्ड्स में खेली जाने वाली आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) में क्वॉलिफाइ करने वाली न्यूजीलैंड पहली टीम बन गई है. 18 से 22 जून 2021 को होने वाले इस खिताबी मैच के लिए अब भरात, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड बाकी बचे एक स्थान के लिए दावेदार हैं.